सूखी और गीली खांसी में आप एक ही तरह का कफ सिरप लेते हैं? जान लें इसके नुकसान

आमतौर पर लोग खांसी होने पर मेडिकल स्टोर से जाकर कोई भी कफ सिरप ले आते हैं और उसका सेवन करते हैं. लोगों को यह जानकारी ही नहीं होती है कि उन्हें खांसी सूखी (ड्राई कफ) है या गीली. खांसी कैसे भी हो सिरप एक की तरह का इस्तेमाल करते हैं. कई बार बिना डॉक्टरों की सलाह के खुद दी सिरप का सेवन करने लगते हैं. डॉक्टर बताते हैं कि ऐसा करने से शरीर को काफी नुकसान पहुंच सकता है. ऐसे में ये जानना जरूरी है कि खांसी क्यों हो रही है और कफ ड्राई है या नहीं.
इन सवालों का जवाब जानने के लिए TV9 भारतवर्ष ने हेल्थ एक्सपर्ट से बातचीत की है.पीडियाट्रिशियन डॉ अरुण शाह बताते हैं कि शरीर में बुखार या खांसी आना कोई खतरे की बात नहीं होती है. ये बॉडी की एक नैचुरल रोग प्रतिरोधक क्षमता की प्रतिक्रिया होती है. खांसी के माध्यम से शरीर से बेकार तत्वों को बाहर निकालते हैं. हालांकि खांसी होने पर लोगों को लगता है कि इससे कोई बीमारी हो सकती है. कई मामलों में ये जानकारी भी नहीं होती है कि सूखी खांसी और गीली खांसी में क्या अंतर है और इससे लिए कोन सी दवा लेनी चाहिए.
देखा ये जाता है कि मरीज को अगर खांसी है तो डॉक्टर जो सिरप लिख देता है मरीज मेडिकल स्टोल से जाकर उसे खरीद लेता है. इसके बाद अगर कभी फिर से खांसी होती है तो पहले वाला कफ सिरप को बिना डॉक्टरी सलाह के खरीद लेते हैं और उसका सेवन करते हैं. इस दौरान लोग ये भी नहीं देखते हैं कि खांसी गीली है या सूखी. ऐसे में कई बार सिरप शरीर को नुकसान भी पहुंचा सकता है. डॉ शाह कहते हैं कि लोग ड्राई कफ और बलगम वाली खांसी में अंतर इसलिए नहीं कर पाते हैं क्योंकि उन्हें इनके बीच के अंतर और लक्षणों की जानकारी नहीं होती है.
गीली और सूखी खांसी में अंतर को ऐसे पहचानें
डॉ शाह बताते हैं कि जब अपर रेस्पिरेटरी ट्रेक में सूजन या कोई इंफेक्शन होता है तो सूखी खांसी ( ड्राई कफ) आती है. इस खांसी में बलगम नहीं होता है. गले में खराश और चुभन होती है. जबकि गीली खांसी में बलगम भी आता और ये नाक और मु्ंह में महसूस होता है. कफ होने की स्थिति में कई बार मुंह से भी सांस लेना पड़ता है. ड्राई कफ में खांसते समय गले में काफी दर्द भी होता है. हालांकि दोनों की प्रकार के कफ में लोग बिना डॉक्टरों की सलाह के कोई भी सिरप लेते हैं. जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए.
बिना सिरप के भी ठीक हो जाती है खांसी
डॉ. अरुण बताते हैं कि खांसी की समस्या कफ सिरप लिए बिना भी ठीक हो सकती है. अगर केवल खांसी है तो घबराना नहीं चाहिए और इसके लिए कोई सिरप लेने की जरूरत भी नहीं है. लेकिन देखा जाता है कि हल्की खांसी होने पर लोग कफ सिरप लेते हैं और चार पांच दिन बाद उनकी खांसी ठीक हो जाती है, लेकिन ये खांसी सिरप से नहीं बल्कि खुद शरीर की इम्यूनिटी की वजह से ठीक होती है लेकिन लगता ये है कि सिरप का असर है. यही कारण है कि सिरप की मांग और खपत काफी ज्यादा है.
घरेलू उपचार की लें सहायता
डॉ शाह कहते हैं कि खांसी होने पर सिरप लेने की जरूरत भी नहीं है. घरेलू उपचार की सहायता से आप ठीक हो सकते हैं.
शहर के साथ अदरक का सेवन, नमक का पानी, और मुंह में लौंग रखने से खांसी के ठीक किया जा सकता है.
हेल्थ की ताजा खबरें यहां पढ़ें