‘आप विदेश नहीं जा सकते, वीजा नकली है’! एयरपोर्ट पर 300 लोगों के साथ जो हुआ कहीं आपके साथ न हो जाए!

विदेश जाने के लिए हर रोज सैकड़ों लोग एयरपोर्ट पहुंचते हैं। अलग-अलग देशों में रोज सैकड़ों लोग दिल्ली से उड़ान भरते हैं, लेकिन सोचिए कैसा लगा होगा उन लोगों को जिन्हें एयरपोर्ट जाने के बाद वापस लौटा दिया गया हो। जो पूरी तैयारी के साथ फ्लाइट पकड़ने एयरपोर्ट गए, हजारों रुपये की विदेश जाने की टिकट्स खरीदीं और फिर उन्हें ये कहकर लौटा गिया गया कि आपका वीजा नकली है। एक, दो नहीं 300 लोगों के साथ ऐसा हुआ। विदेश जाने वाले 300 लोगों का सपना टूटाजी हां ये चौंकाने वाली खबर दिल्ली से है जहां 300 लोग एक बड़े फर्जीवाड़े का शिकार हुए हैं। दिल्ली खुलेआम बेहद शातिर तरीके से विदेश जाने वाले लोगों को मुर्ख बनाया जा रहा था। सोशल साइट्स के जरिए लोगों को वीजा के लिए बुलाया जा रहा था। दरअसल जो लोग विदेशों में नौकरी करने जाते हैं उन्हें वीजा लेने के लिए हमेशा काफी कोशिश करनी पड़ती है। जॉब वीजा आसानी से नहीं मिलता और इसका फायदा उठा रहा था दिल्ली का एक गैंग। दिल्ली में लोगों के साथ विदेश के नाम पर धोखाधड़ीमिडल ईस्ट में नौकरी का वीजा दिलावाने के नाम पर ये गैंग सोशल साइट्स पर विज्ञापन डालता था। विज्ञापन को देखकर कई लोग इनके झांसे में आने लगे। दिल्ली के सुभाष नगर इलाके में इस गैंग ने अपना ऑफिस खोला हुआ था। जहां बेहद सिस्टमेटिक तरीके से ये लोग नकली वीजा बनाने का काम करते थे। विज्ञापन में एक फोन नंबर दिया हुआ होता था। लोग जब फोन उठाते तो इनके कॉल सेंटर पर कॉल जाती। उसके बाद ये उस शख्स को अपने ऑफिस बुलाते। नेपाल भेजा जाता था पासपोर्टऑफिस में वीजा के लिए अप्लाई करने वाले शख्स से उसका पासपोर्ट और दूसरे दस्तावेज मांगे जाते। साथ ही वीजा के नाम पर कुछ पैसा भी लिया जाता। उसके बाद ये उस शख्स को मेडिकल चेपकअप के लिए एक अगली डेट देते। दिल्ली के एक अस्पताल में कैंडिडेट का मेडिकल चेकअप भी होता। इसके बाद उस शख्स के पासपोर्ट को ये लोग नेपाल भेज देते। जहां इनके गैंग के दूसरे लोग काम कर रहे थे। वहां पासपोर्ट पर वीजा की स्टांप लगाई जाती। कुछ दिनों बाद पासपोर्ट पर वीजा लगकर आ जाता तो उस शख्स को फिर ऑफिस में बुलाया जाता। उससे बाकी बची हुई वीजा की फीस ली जाती और उसका पासपोर्ट वापस दे दिया जाता। 300 लोग एयरपोर्ट से वापस लौटेउसे पता भी नहीं चलता कि उसके साथ धोखाधड़ी हुई है। ये बात तब सामने आती जब वो यात्रा वाले दिन एयरपोर्ट पहुंचता। इमिग्रेशन डिपार्टमेंट में लाइन में लगने के बाद जब नंबर आता तो पता चलता कि जो वीजा पासपोर्ट में लगा है वो नकली है। पिछले 4 महीनों में ऐसे ही 300 से ज्यादा लोगों को ये इसी तरह धोखधड़ी का शिकार बना चुके हैं। 2 लोगों को किया गया है गिरफ्तारदिल्ली पुलिस की टीम को लगातार इनके खिलाफ शिकायत मिल रही थी। पुलिस की एक टीम इस काम में लगी हुई थी और आखिरकार 2 लोगों को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है। राजस्थान के रहने वाले रिजवान और बाहदुरगढ़ के सुशील को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। ये लोग मीट वीजा (Meet Visa) के नाम से सुभाष नगर में अपनी फर्जी कंपनी चला रहे थे। इनके पास से 6 मोबाइल और 8 सिमकार्ड और 70 हजार रुपये पुलिस ने बरामद किए हैं। पुलिस जांच में जुटी है कि इन लोगों के साथ और कितने लोग जुड़े हुए हैं और कितने लोगों को ये नकली वीजा जारी कर चुके हैं।