पीला, लाल और हल्‍का हरा…स्वर्ण जड़ित रामलला किस दिन कौन से कलर की धोती पहनते हैं?

अयोध्‍या: भीषण ठंड, बर्फीली हवाएं और घना कोहरा भी रामलला के दर्शन की आस्‍था के आगे बेअसर हैं। अयोध्या में लाखों की संख्‍या में श्रद्धालु हर रोज भोर से ही प्रभु राम के दर्शन के इंतजार में कतारों में खड़े हो जा रहे हैं। रामभक्‍तों की भारी भीड़ को देखते हुए मंदिर ट्रस्‍ट ने दर्शन समय में इजाफा कर दिया है। अब हर दिन सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक श्रद्धालु अपने राम के दर्शन कर सकते हैं। रामलला को हर दिन के अनुसार वस्‍त्र भी पहनाए जा रहे हैं। उनके कपड़ों का रंग हर दिन बदलता है। आइए जानते हैं कि रामलला किस दिन किस रंग की पोशाक धारण करते हैं- सोमवार- सफेद रंग की पोशाकमंगलवार- लाल रंग का वस्‍त्रबुधवार- हल्का हरे रंग का कपड़ागुरुवार- पीले रंग का वस्‍त्रशुक्रवार- क्रीम कलर की पोशाकशनिवार- नीले रंग का वस्‍त्ररविवार- गुलाबी रंग की पोशाक आरती का समयप्रात: 6 बजे मंगला आरती7 बजे श्रृंगार आरती, बालभोगदोपहर 12 बजे राजभोग और मध्‍यान आरती रात 8 बजे संध्‍या आरती, रात 10 बजे शयन आरती हर दिन 4 लाख से ज्‍यादा श्रद्धालु कर रहे दर्शन दूसरी ओर, अयोध्‍या कैंट और अयोध्‍या धाम रेलवे स्‍टेशनों से ट्रेनों का संचालन भी शुरू हो गया है। इसका असली मकसद अयोध्‍या में जमा लाखों की भीड़ को वापस भेजना और केवल सीमित संख्‍या में ही श्रद्धालुओं के प्रवेश की व्‍यवस्‍था करना है। इसके लिए बाहर से बसों में आने वाले श्रद्धालुओं के जत्‍थों को जिले से पहले बार्डर पर चेक कर रोका भी जा रहा है। वीआईपी और भारी संख्‍या में श्रद्धालुओं के दर्शन करवाने के प्‍लान में भी परिवर्तन किए जा रहे हैं। अब एक सप्‍ताह पहले सूचना देने के बाद बाद ही ऐसे लोगों को रामलला का दर्शन सुलभ हो सकेगा। हालांकि इतने प्रतिबंध के बाद भी रोजाना दर्शन करने वालों की संख्या 4 लाख के करीब पहुंच रही है।