WTC फाइनल में पहुंचने के बाद अब ऑस्ट्रेलिया का पछाड़ने की प्‍लानिंग में जुटी टीम इंडिया

अहमदाबाद: भारत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आखिरी मैच में ड्रॉ खेलने के बावजूद WTC के फाइनल में पहुंच गया है। जून में होने वाले फाइनल के लिए टीम इंडिया के पास एक शानदार प्लान है।

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि जिन भारतीय खिलाड़ियों की इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) टीमें इस टी20 लीग के प्ले ऑफ में जगह नहीं बना पाएंगी वे खिलाड़ी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल से पहले लंदन में दो हफ्ते के अनुकूलन शिविर में हिस्सा ले सकते हैं।
डब्ल्यूटीसी फाइनल आईपीएल के ठीक बाद जून में खेला जाएगा। आईपीएल फाइनल 29 मई को है जबकि डब्ल्यूटीसी फाइनल सात जून से ओवल में शुरू होगा।

कोविड-19 के प्रकोप के बाद पहली बार आईपीएल घरेलू और विरोधी के मैदान के अपने मूल प्रारूप में खेला जाएगा, इस दौरान खिलाड़ियों को काफी यात्रा करनी होगी। भारत के मौजूदा नियमित टेस्ट खिलाड़ियों में केवल चेतेश्वर पुजारा ही आईपीएल का हिस्सा नहीं हैं। रोहित ने भारत के ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज 2-1 से जीतने के बाद प्रेस कहा, ‘यह हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है। हम उन सभी खिलाड़ियों के साथ लगातार संपर्क में रहेंगे जो उस फाइनल में खेलने जा रहे हैं और उनके कार्यभार की निगरानी करेंगे तथा देखेंगे कि उनके साथ क्या हो रहा है।’

उन्होंने कहा, ‘21 मई के आसपास छह टीमें होंगी जो संभवतः आईपीएल प्ले ऑफ की दौड़ से बाहर हो जाएंगी और इसलिए जो भी खिलाड़ी उपलब्ध होंगे हम कोशिश करेंगे कि वे जल्द से जल्द ब्रिटेन पहुंच जाएं।’

तीन मुख्य तेज गेंदबाजों मोहम्मद सिराज (रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर), मोहम्मद शमी (गुजरात टाइटंस), उमेश यादव (कोलकाता नाइटराइडर्स) के अपनी फ्रेंचाइजी के लिए नियमित रूप से खेलने की उम्मीद है। उनके 14 ग्रुप लीग खेलों में से कम से कम 12 में खेलने की संभावना है और ऐसे में उनके कार्यभार पर नजर रखना महत्वपूर्ण होगा।

रोहित ने कहा, ‘हम सभी तेज गेंदबाजों को कुछ (लाल) ड्यूक गेंदें भेज रहे हैं। उन्हें इससे गेंदबाजी करने का समय मिलता है लेकिन यह सब व्यक्तिगत खिलाड़ियों पर निर्भर करता है।’

भारत में एसजी टेस्ट और ऑस्ट्रेलिया में कूकाबूरा के विपरीत इंग्लैंड में टेस्ट ड्यूक गेंदों के साथ खेले जाते हैं। देखना होगा कि शमी, उमेश और सिराज यात्रा, मैचों और व्यस्त कार्यक्रम के बीच कितना समय निकाल पाते हैं। लेकिन टेस्ट टीम के अधिकतर सदस्यों के लिए इंग्लैंड कोई नई जगह नहीं है क्योंकि वे सभी वहां कई सीरीज खेल चुके हैं और उनमें से कुछ ने काउंटी क्रिकेट भी खेला है।

रोहित ने कहा, ‘जो लोग फाइनल का हिस्सा होंगे वे ऐसे खिलाड़ी नहीं हैं जो ब्रिटेन में नहीं खेले हैं। हो सकता है कि एक-दो खिलाड़ी ऐसे हों लेकिन बाकी हम सभी दुनिया के उस हिस्से में खेले हैं। मुझे नहीं लगता यह बहुत बड़ी समस्या होगी।’ दोनों टीमों ने इंग्लैंड में काफी क्रिकेट खेली है लेकिन तटस्थ स्थल दोनों के लिए पूरी तरह से अलग माहौल होगा।

रोहित ने कहा, ‘फाइनल में उनसे (ऑस्ट्रेलिया) खेलने की बात करें तो यह दोनों टीमों के लिए तटस्थ स्थान के साथ एक अलग गेंद का मुकाबला होगा। दोनों टीमों ने दुनिया के उस हिस्से में काफी क्रिकेट खेली है और मैं यह नहीं कहूंगा कि यह दोनों टीमों के लिए नई परिस्थितियां होंगी, लेकिन हां यह भारत में भारत या ऑस्ट्रेलिया में ऑस्ट्रेलिया को खेलने जैसा नहीं होने वाला। मुझे यकीन है कि दोनों टीमें इसके लिए तैयारी करेंगी।’