दिल्ली जल संकट को लेकर फूटा महिलाओं का गुस्सा, पुलिस की मौजूदगी में जल बोर्ड दफ्तर में पथराव

नवीन निश्चल, नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में बीजेपी के नेतृत्व में हो रहे प्रदर्शन में महिलाओं ने के ऑफिस में अचानक पथराव कर दिया। साउथ दिल्ली के छतरपुर स्थित दिल्ली जल बोर्ड के फीलिंग पॉइंट पर महिलाओं का गुस्सा फूटा और पुलिस की मौजूदगी में दिल्ली जल बोर्ड ऑफिस पर पथराव करके उसके शीशे तोड़ दिए गए। यह प्रदर्शन साउथ दिल्ली के पूर्व सांसद रमेश बिधूड़ी के नेतृत्व में किया गया था। इस प्रदर्शन के दौरान वह खुद मौजूद थे। बता दें कि रविवार को बीजेपी ने दिल्ली में 14 जगहों पर आम आदमी पार्टी के खिलाफ मटका फोड़ प्रदर्शन किया।दिल्ली जल संकट को लेकर राजनीति गर्मदिल्ली के जल संकट को लेकर राजनीति गर्म है। दिल्ली की आम आदमी पार्टी जहां जल संकट के लिए हरियाणा की बीजेपी सरकार को जिम्मेदार बता रही है, तो वहीं बीजेपी आप के खिलाफ प्रदर्शन कर रही है। आप पर तीखा हमला करते हुए भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा ने कहा कि जब अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री बने थे तो दिल्ली जल बोर्ड करोड़ों रुपये के मुनाफे में था। उन्होंने कहा, ‘केजरीवाल के पास एक वर्ष से ज्यादा समय तक दिल्ली जल बोर्ड के अध्यक्ष पद का प्रभार रहा। यह अजीब और आश्चर्यजनक है कि एक वर्ष से अधिक समय की ऑडिट रिपोर्ट गायब है और जल बोर्ड भारी कर्ज में डूबा है।’ सचदेवा ने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी के सभी मंत्री पानी चोरी कर रहे हैं और दिल्ली में टैंकर माफिया चला रहे हैं।बीजेपी ने अलग-अलग इलाकों में किया प्रदर्शननई दिल्ली संसदीय सीट से नवनिर्वाचित भाजपा सांसद बांसुरी स्वराज ने केजरीवाल सरकार के खिलाफ आरके पुरम में प्रदर्शन किया। इस विरोध-प्रदर्शन में भाजपा के कई पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी मौजूद रहे। भाजपाइयों ने केजरीवाल सरकार के खिलाफ मटका फोड़ कर विरोध-प्रदर्शन किया। इस दौरान दिल्ली जल बोर्ड और दिल्ली सरकार के खिलाफ लोगों ने जमकर नारेबाजी की। बांसुरी स्वराज ने कहा कि यह बहुत ही शर्मनाक है कि पिछले 10 साल से यहां आम आदमी पार्टी की सरकार है। हर साल पानी की समस्या होती है, लेकिन दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस संकट को दूर करने के लिए कुछ नहीं किया।’हरियाणा तय समझौते से ज्यादा पानी दे रहा’उन्होंने कहा कि दिल्ली के पास पानी है। हरियाणा तय समझौते से ज्यादा पानी दे रहा है। आप सरकार ने जल बोर्ड को 600 करोड़ रुपये के मुनाफे से 73 हजार करोड़ रुपये के घाटे में लाकर खड़ा कर दिया। दिल्ली जल बोर्ड में मरम्मत का कोई काम नहीं किया गया। सिर्फ और सिर्फ टैंकर माफिया को प्रोत्साहित किया। दिल्ली की जनता आज पानी के लिए तरस रही है क्योंकि केजरीवाल सरकार ने इस पर कोई काम नहीं किया। दिल्ली में 40 फीसदी से ज्यादा पानी बर्बाद हो जाता है या फिर टैंकर माफिया उसे चुराकर ले जाता है।