नौ महीनों में जगदीश शेट्टार का कांग्रेस से मोहभंग क्यों हो गया?

बेंगलुरु: कर्नाटक विधानसभा चुनावों से पहले पूर्व मुख्यमंत्री बीजेपी छोड़कर सुर्खियों में आए थे, लेकिन नौ महीने में ही उन्होंने बीजेपी में वापसी की है। ऐसे में लोकसभा चुनावों से पहले कर्नाटक की सियासत गरमा गई है। जगदीश शेट्टार कांग्रेस से एमएलसी थे। जगदीश शेट्टार ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले टिकट नहीं मिलने पर बीजेपी छोड़ी थी। तब उन्होंने कहा था कि वह सम्मान के लिए कांग्रेस जॉइन कर रहे हैं। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके जगदीश शेट्टार हुबली धारवाड़ से 6 बार विधायक रह चुके हैं। अमित शाह से मिल थे शेट्टार! कर्नाटक विधानसभा चुनावों से पहले जब जगदीश शेट्टार जब वह पार्टी छोड़ रहे थे। तब बीजेपी ने उन्हें केंद्र में मंत्री बनाने का वादा किया था। इसके बावजूद उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी। बीजेपी छोड़ने के बाद भी वह कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़े मगर हार गए। जगदीश शेट्टार कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद शेट्टार दरकिनार हो गए थे। कांग्रेस ने उन्हें एमएलसी बनाया था, लेकिन उन्हें कांग्रेस ने राज्य में मंत्री भी नहीं बनाया था, जबकि वह विधान परिषद के सदस्य हैं। सूत्रों की मानें तो जगदीश शेट्टार ने घर वापसी से पहले गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की है। उन्होंने येदियुरप्पा और बी वाई विजयेंद्र की अगुवाई में बीजेपी के मजबूत होने का दावा किया है।शेट्टार ने बताया क्यों की वापसी? जगदीश शेट्टार ने कहा कि बीजेपी के कार्यकर्ता चाहते थे कि मैं घरवापसी कर लूं। शेट्टा र ने कहा कि येदियुरप्पा जी और विजयेंद्र जी भी यही चाहते थे कि मैं बीजेपी में वापस लौटूं। मैं इस विश्वास के पार्टी पार्टी रहा हूं कि नरेंद्र मोदी फिर से देश के प्रधानमंत्री बनेंगे। जगदीश शेट्टार की घरवापसी से जहां बीजेपी में खुशी है तो वहीं कांग्रेस ने उनके इस कदम को ‘विश्वासघात’ बताया और उनकी अंतरात्मा पर सवाल उठाया। मुख्यमंत्री सिद्धरमैया और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष एवं उपमुख्यमंत्री डी के शिवकुमार ने कहा कि पिछले साल विधानसभा चुनाव से पहले शेट्टार के कांग्रेस में शामिल होने के बाद पार्टी ने उनके साथ सम्मानजनक व्यवहार किया, जबकि भाजपा ने मई में चुनाव के लिए टिकट नहीं देकर उन्हें अपमानित किया था। लोकसभा चुनाव में बन सकते हैं कैंडिडेट शेट्टार पिछले साल 17 अप्रैल को कांग्रेस में शामिल हुए थे।उत्तरी कर्नाटक के प्रमुख लिंगायत नेता शेट्टार का परिवार जनसंघ के दिनों से पार्टी से जुड़ा हुआ है और वह अपने गढ़ कित्तूर कर्नाटक क्षेत्र में एक प्रभावशाली नेता हैं। वह प्रदेश भाजपा अध्यक्ष भी रह चुके हैं। शेट्टार की बीजेपी में वापसी पर चर्चा है कि बीजेपी ने उन्हें लोकसभा चुनाव भी लड़वा सकता है। बीजेपी ने लोकसभा चुनावों के लिए कर्नाटक में पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा की पार्टी जनता दल सेक्युलर से गठबंधन किया है।