चीन वाले नए कोरोना को ओमिक्रॉन का पड़पोता क्यों कह रहे भारतीय एक्सपर्ट

नई दिल्ली: माना जा रहा है कि चीन समेत कई देशों में कोविड-19 के मौजूदा उछाल के लिए ओमिक्रॉन का सब-वेरिएंट बीएफ.7 जिम्मेदार है। भारत ने भी अब तक इस वेरिएंट के चार मामले दर्ज किए हैं, जिनमें दो गुजरात से और दो ओडिशा से हैं। चीन के उलट, कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ने भारत को गंभीर रूप से प्रभावित नहीं किया है, जबकि भारत में इस वेरिएंट का पहला मामला महीनों पहले पता चला था।

हालांकि, केंद्र ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को सतर्क रहने और वेरिएंट को ट्रैक करने के लिए जीनोम सिक्वेंसिंग को तेज करने का निर्देश दिया है। बीएफ.7, ओमिक्रॉन वेरिएंट बीए.5 की उप-वंशावली है, जिसे नेशनल आईएमए कोविड टास्कफोर्स के सह-अध्यक्ष डॉ. राजीव जयदेवन ‘ओमिक्रॉन का पड़पोता’ कहते हैं।

उन्होंने कहा, ‘बीएफ.7 ओमिक्रॉन का एक तरह से प्रपौत्र है, जिसमें मूल ओमिक्रॉन की तुलना में पहले से संक्रमित या टीकाकृत लोगों को संक्रमित करने की अधिक क्षमता है। इसे प्रतिरक्षा बचाव कहा जाता है। यह अनिवार्य रूप से ओमिक्रॉन के समान वायरस है, लेकिन अतिरिक्त म्यूटेशन के साथ… कोई संकेत नहीं है कि इससे अधिक गंभीर बीमारी हो सकती है।’

डॉ. जयदेवन ने बताया कि ओमिक्रॉन को नवंबर 2021 में दक्षिण अफ्रीका में देखे जाने के बाद इसने केवल डेढ़ महीने में दुनिया को कवर किया। भारत ने पहले बीए.1 संस्करण देखा, उसके बाद बीए.2, जो जनवरी-फरवरी 2022 में तीसरी लहर का कारण बना। तब से, बीए.2 के बेटे, बेटियां और पोते-पोतियां भारत में घूम रहे हैं, लेकिन कोई बड़ी लहर पैदा नहीं की है।

कोविड-19 संक्रमण के खिलाफ उच्च टीकाकरण और स्वाभाविक रूप से मजबूत इम्युनिटी को श्रेय देते हुए डॉ. जयदेवन ने कहा कि जब ओमिक्रॉन के बाद के बीए.5 वेरिएंट के तहत पश्चिमी देशों को नुकसान उठाना पड़ा, तो भारत के अधिकांश हिस्सों में बीए.5 से जुड़े मामलों में ज्यादा वृद्धि नहीं देखी गई।

उन्होंने कहा कि कुछ महीने पहले जब बीएफ.7 के बारे में पहली बार रिपोर्ट आई थी, तो वैज्ञानिक शुरू में इसके बारे में गंभीर थे, क्योंकि इसके मामले एक साथ कई देशों में सामने आए थे। यह विशेष रूप से बेल्जियम और डेनमार्क, जर्मनी और फ्रांस में भी पाया गया था। स्वाभाविक रूप से शुरुआती चिंताएं थीं कि यह अपने भाई-बहनों को पछाड़ देगा। ऐसा नहीं हुआ। उदाहरण के लिए, अमेरिका में बीएफ.7 इस समय केवल 3.9 प्रतिशत वेरिएंट बनाता है। ऐसा संभवत: इसलिए है, क्योंकि इसे बाद में बीक्यू.1, बीक्यू.1.1 और एक्सबीबी जैसे ओमिक्रॉन के नए और अधिक सक्षम संस्करणों द्वारा मात दी गई थी।

डॉ. जयदेवन ने हाल ही में बढ़ते कोविड को लेकर फैलते डर पर सलाह दी। इस समय कोई संकेत नहीं है कि बीएफ.7 या इसके पूर्वज बीए.5 ने भारत में कोई प्रभाव डाला है। उत्तरी चीन में भी बताया गया है कि निरंतर जीनोमिक निगरानी की जरूरत है। पूरी दुनिया में सबसे पहले वायरस की तेजी से बदलती प्रकृति के कारण… कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले कुछ लोग लंबे समय तक वायरस को आश्रय दे सकते हैं।

पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट और डायरेक्टर, बोन एंड जॉइंट इंस्टीट्यूट, फोर्टिस एस्कॉर्ट हॉस्पिटल के डॉ. कौशल कांत मिश्रा ने कहा कि कोविड-19 लगातार उत्परिवर्तित हो रहा है, वायरस का आरएनए स्ट्रैंड दोहराता है और गलतियां करेगा जिसके परिणामस्वरूप म्यूटेशन होगा, जो महत्वपूर्ण परिवर्तन ला सकता है।

वायरस को बेहतर ढंग से अनुकूलित या जीवित रहने में मदद करता है और वायरस की तेजी से फैलने की क्षमता को बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि दुनियाभर में हुए अध्ययनों से पता चला है कि ओमिक्रॉन का सबवेरिएंट होने के नाते, यह अत्यधिक संक्रामक है और अन्य वेरिएंट की तुलना में तेजी से फैलता है।

उन्होंने कहा कि हमने जोड़ों के दर्द, शरीर के ऊपरी हिस्से में दर्द, यूआरआई और वर्टिगो की बढ़ती प्रवृत्ति देखी है। अब तक किसी भी अध्ययन में इन लक्षणों को नए वेरिएंट से नहीं जोड़ा गया है इसलिए हम यह नहीं कह सकते कि ये लक्षण हैं। हालांकि, सबसे आम लक्षणों में कंजेशन, गले में खराश, खांसी, थकान और नाक बहना शामिल हैं।