हेड कोच राहुल द्रविड़ से पंगा, टीम इंडिया से निकाले गए, अब कहां और किन हालात में हैं ईशान किशन?

नई दिल्ली: ईशान किशन कहां हैं? बाएं हाथ के विकेटकीपर-बल्लेबाज के साथ क्या हो रहा है? वह इंग्लैंड के खिलाफ जारी पांच टेस्ट मैच की श्रृंखला के लिए भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा क्यों नहीं हैं? वह झारखंड के लिए रणजी ट्रॉफी क्यों नहीं खेल रहे हैं? ये कुछ ऐसे सवाल हैं जो भारतीय क्रिकेट प्रशंसक पूछ रहे हैं क्योंकि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से ईशान किशन की गैरमौजूदगी हॉट टॉपिक बन चुका है। विशाखापट्टनम में इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट में जीत के बाद सारी निगाहें ईशान किशन को खोजने लगी क्योंकि बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज केएस भरत का प्रदर्शन बेहद मामूली रहा। साउथ अफ्रीका के खिलाफ दो टेस्ट मैच की सीरीज से क्रिकेट से ब्रेक लेने वाले ईशान किशन पर भारतीय हेड कोच राहुल द्रविड़ ने कहा कि मैनेजमेंट उनके फैसले का सम्मान करता है। उन पर कोई अतिरिक्त दबाव नहीं था।जहां तक ईशान किशन का सवाल है, यह समझा जाता है कि जब भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज में जितेश शर्मा को प्लेइंग इलेवन में चुना तो वह नाखुश थे, जिससे उन्हें एक बार फिर से बेंच पर बैठना पड़ा। खास तौर पर ईशान किशन ने वनडे विश्व कप में 11 में से सिर्फ दो मैच खेले और उसके ठीक बाद हुई ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टी-20 सीरीज में 58, 52 और 0 का स्कोर किया। हालांकि विश्व कप की लगातार यात्रा और दबाव से मानसिक और शारीरिक थकान थी। किशन को प्रोटियाज के खिलाफ शुरुआत करने की उम्मीद थी, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। हेड कोच राहुल द्रविड़ ने स्पष्ट रूप से कहा है कि ईशान किशन को ‘कुछ क्रिकेट खेलने और वापस आने’ की जरूरत है। इस वक्त देश में भारत-इंग्लैंड टेस्ट सीरीज के अलावा जो एकमात्र क्रिकेट टूर्नामेंट चल रहा है, वह रणजी ट्रॉफी है। हालांकि किशन का झारखंड राज्य क्रिकेट संघ से किसी तरह का कोई संवाद नहीं हुआ है। पांच मैच में सिर्फ एक जीत हासिल करने के बाद झारखंड अपना आखिरी रणजी ट्रॉफी ग्रुप स्टेज मैच 9 फरवरी से जमशेदपुर में हरियाणा के खिलाफ खेलेगा। ईशान किशन एक बार फिर टीम का हिस्सा नहीं होंगे जबकि कुछ लोग उनकी सोशल मीडिया गतिविधियों जैसे पार्टी की तस्वीरें और वीडियो पोस्ट करने से नाराज हैं। वैसे सर्किट के भीतर कई लोग स्पष्ट हैं कि एक खिलाड़ी जब ब्रेक पर होता है तो वह अपना समय अपनी इच्छानुसार बिताने के लिए स्वतंत्र है।इस बीच ईशान किशन बड़ौदा में किरण मोरे अकादमी में ट्रेनिंग लेते देखे गए, जो गुजरात शहर में क्रिकेटरों के लिए एक लोकप्रिय स्थान है, जहां उन्हें पंड्या बंधुओं – हार्दिक और क्रुणाल की कंपनी है। संयोग से, हार्दिक पंड्या मुंबई इंडियंस के कप्तान हैं और ईशान किशन भी इसी टीम से खेलते हैं। रिपोर्ट्स तो ये भी कहती है कि उनकी लगातार अनुपस्थिति सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट पर भी फर्क डाल सकती है। वर्तमान में वह 1 करोड़ रुपये की वार्षिक रिटेनरशिप के साथ ग्रेड सी में हैं।