MP : मंदिर में पुजारी ने ली समाधि तो हरकत में आया प्रशासन, गड्ढा खोदकर बाहर निकलवाया

छतरपुर: मध्य प्रदेश के छतरपुर में एक मंदिर के पुजारी ने मंगलवार की दोपहर में जिंदा समाधि ले ली. इसके लिए उन्होंने मंदिर परिसर में ही गड्ढा खुदवाया और अंदर जाने के बाद इसे बंद करा दिया. हालांकि थोड़ी ही देर बाद सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची प्रशासनिक टीम ने मिट्टी हटाकर पुजारी को गड्ढे से बाहर निकलवा लिया है. इसके बाद प्रशासन ने उनका मेडिकल कराया है. तहसीलदार संध्या अग्रवाल के मुताबिक पुजारी की मेडिकल रिपोर्ट आई है. इसमें वह स्वस्थ पाए गए हैं.

मामला छतरपुर के गोरैया गांव का है. जानकारी के मुताबिक पुजारी ने कई दिन पहले ही समाधि लेने की घोषणा कर दी. इसी क्रम में उन्होंने मंगलवार को मंदिर परिसर में ही 6 फीट का गड्ढा खुदवाया और भक्तों से कहा कि 29 मार्च की दोपहर एक बजकर 40 मिनट पर वह अंदर से आवाज लगाएंगे. यह कहते हुए वह गड्ढे के अंदर अंदर चले गए और उसे ढंकवा दिया. इतने में किसी व्यक्ति ने पुलिस को सूचना दे दी.

ये भी पढ़ें:60 साल की उम्र7 फीट गहरे गड्ढे में तपस्या, भोपाल में साधु ने ली समाधि; Video

इसके बाद पुलिस और तहसीलदार संध्या अग्रवाल की टीम मौके पर पहुंची और मिट्टी हटाकर गड्ढे से पुजारी को बाहर निकाला गया. तहसीलदार ने बताया कि गड्ढे में पुजारी लेटे हुए थे और उनके पास एक दीपक जलता हुआ मिला है. पुलिस के मुताबिक पुजारी के अंदर जाने के बाद उनके भक्तों ने विधिवत पूजन किया. इसके बाद गड्ढे पर लोहे की चादर रखकर करीब दो फीट मोटी मिट्टी की परत चढ़ा दी. ऊपर से मिट्टी के 5 मटके भी रखवा दिए.

ये भी पढ़ें:3 दिन समाधि में जमीन के अंदर रहने के बावजूद सब बढ़िया? पढ़िए क्या कहते हैं डॉक्टर

यह सब हो ही रहा था कि मौके पर मौजूद किसी व्यक्ति ने पुलिस और प्रशासन को सूचित कर दिया. वहीं समय रहते हरकत में आए प्रशासन ने पुजारी को सकुशल बाहर निकाल लिया है. तहसीलदार ने बताया कि गोरैया गांव में सिद्ध बाबा का मंदिर है. यहां 60 वर्षीय बाबा नारायण दास कुशवाहा पूजा पाठ करते हैं. उन्होंने बताया कि बाबा ने मंगलवार की दोपहर समाधि लेने की कोशिश की थी, लेकिन उन्हें बचा लिया गया है. उन्होंने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट में उनका स्वास्थ्य बेहतर पाया गया है.