दुनिया का छठा सबसे रईस व्‍यक्ति जिसे बाद में पत्‍नी के गहने बेचने पड़े, अनिल अंबानी की कहानी से क्‍या सबक?

नई दिल्‍ली: कभी रिलायंस ग्रुप का चेहरा हुआ करते थे। बड़े भाई के साथ ग्रुप के विभाजन के बाद अनिल दुनिया के छठे सबसे अमीर कारोबारी बन गए थे। उनके पास 42 अरब डॉलर की संपत्ति थी। मुकेश अंबानी ने जहां अपना कारोबार बढ़ाया और दुनिया के सबसे अमीर उद्योगपतियों में से एक बन गए। वहीं, कुछ ही सालों में छोटे भाई अनिल अंबानी ने सब चौपट कर दिया। वह पैसे-पैसे को मोहताज हो गए। एक समय यह तक आया कि उनके पास वकीलों को फीस देने तक को पैसे नहीं थे। उन्हें पत्‍नी के गहने बेचकर उनकी फीस देनी पड़ी थी। अनिल अंबानी की नाकामी सबक है कि कैसे खराब विकल्प और दूरदर्शिता की कमी बड़े से बड़े कारोबारी साम्राज्य को ध्वस्त कर सकते हैं। अनिल अंबानी के अर्श से फर्श पर आने के पीछे सिर्फ वही जिम्‍मेदार थे। उनकी पसंद ही उनके पतन का कारण बनीं। उन्होंने उचित योजना या दूरदृष्टि के बिना एक साथ कई कंपनियां शुरू कर दीं। टेलीकॉम, पावर, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और एनटरटेनमेंट सेक्‍टरों में अनिल ने बड़ा खिलाड़ी बनने के सपने देखे। लेकिन, उनकी सभी योजनाएं खराब तरीके से लागू हुईं। उम्मीद से ज्यादा लागत, गलत प्लानिंग और कम रिटर्न ने अनिल अंबानी को कर्ज में धकेलना शुरू कर दिया।द‍िवाल‍िया हो गए अन‍िल अंबानीअनिल अंबानी की कंपनियों पर कर्ज बढ़ने लगा। इससे उन्हें एक के बाद एक कंपनी बेचने पर मजबूर होना पड़ा। उनके गलत फैसलों के कारण टेलीकॉम कंपनी आरकॉम डूब गई। इस कंपनी का कर्ज 25 हजार करोड़ रुपये तक पहुंच गया था। अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी पर चीनी बैंकों से कर्ज लिया। लेकिन, वह उसे चुकाने में असमर्थ रहे। उन्हें लंदन की अदालत में पेश होना पड़ा। अदालत ने उनसे तीन बैंकों के करीब 5446 करोड़ रुपये चुकाने को कहा। अनिल अंबानी ने कोर्ट के सामने खुद को दिवालिया करार देते हुए कहा कि उनके पास पैसे नहीं बचे हैं। कुल कर्ज लगभग 40,000 करोड़ रुपये होने का अनुमान लगाया गया था।वकीलों की फीस भरने तक का पैसा नहीं था अनिल अंबानी की नेटवर्थ शून्य हो गई। वकीलों की फीस भरने के लिए उन्हें अपनी पत्नी के गहने बेचने पड़े। उन्होंने कहा था कि उनके पास एक कार के अलावा कुछ नहीं बचा है। वह साधारण जिंदगी जी रहे हैं। फरवरी 2023 तक उनकी कुल संपत्ति लगभग 250 करोड़ रुपये थी। उनके पास मुंबई में 17 मंजिल का एक घर है। तीन बैंकों का कर्ज हाल ही में अनिल अंबानी की रिलायंस ने निपटाया। अब रिलायंस पावर की दो सहायक कंपनियों- कलाई पावर और रिलायंस क्लीनजेन ने 1023 करोड़ रुपये के बड़े कर्ज का समाधान किया है।