मेवाड़ साधने का प्लान, जोशी को कमान, सबसे अधिक 4 ब्राह्मण मुख्यमंत्री देने वाले राज्य को लेकर बीजेपी की योजना क्या है?

भारतीय जनता पार्टी ने 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले अपनी दिल्ली, बिहार और राजस्थान राज्य इकाइयों में नए प्रमुखों की नियुक्ति की। दिल्ली भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष वीरेंद्र सचदेवा को इसके राज्य इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया गया और लोकसभा सांसद सीपी जोशी को राजस्थान भाजपा का नया प्रमुख नियुक्त किया गया। राजस्थान में चुनाव होने से आठ महीने पहले एक अप्रत्याशित कदम में भाजपा ने गुरुवार को अपने प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया की जगह चित्तौड़गढ़ से लोकसभा सांसद चंद्र प्रकाश जोशी की नियुक्ति की है। ब्राह्मण नेता जोशी की जड़ें आरएसएस से जुड़ी हैं और वो जमीनी नेता माने जाते हैं। चित्तौड़गढ़ में अपने कॉलेज में छात्र संघ के अध्यक्ष के रूप में एबीवीपी के साथ शुरुआत करते हुए, भदेसर में जिला परिषद सदस्यता और उप-प्रधान पद तक पहुंचे। पंचायत समिति, और इसके अध्यक्ष बनने से पहले राजस्थान भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM) समते कई पदों पर रहे हैं।इसे भी पढ़ें: गहलोत ने मुख्यमंत्री के रूप में अपनी चौथी पारी खेलने का पूरा बंदोबस्त कर लिया हैअपनी सीट से हासिल की थी दूसरी सबसे बड़ी जीत2014 में देश भर में चलने वाली नरेंद्र मोदी लहर में जोशी चित्तौड़गढ़ से लोकसभा के लिए चुने गए। उन्होंने 3.16 लाख वोटों के भारी अंतर से विजय हासिल की। 2019 में उन्होंने फिर से जीत हासिल की और वो भी पिछले से भी बड़ी जीत। कांग्रेस के प्रतिद्वंद्वी गोपाल सिंह शेखावत पर अपना अंतर बढ़ाकर 5.76 लाख वोट कर दिया। यह उस चुनाव में राज्य में दूसरी सबसे बड़ी जीत का अंतर था, इसके बाद बीजेपी के सुभाष चंद्र बहेरिया ने भीलवाड़ा से 6.12 लाख वोटों से जीत हासिल की। जोशी अगस्त 2020 से भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे हैं। चुनावी वर्ष में भाजपा एक ब्राह्मण नेता के रूप में जोशी को भुनाने की कोशिश कर सकती है। राजस्थान में एक समुदाय से सबसे अधिक यानी चार ब्राह्मण मुख्यमंत्री रह चुके हैं। हालांकि ये आखिरी तीन दशक पहले की बात है। भाजपा के निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष पूनिया जाट हैं। हालांकि इस समुदाय की संख्या ब्राह्मणों से काफी अधिक है, लेकिन राजस्थान में इसका कभी कोई मुख्यमंत्री नहीं रहा है।भरेंगे राजस्थान भाजपा की शून्यतावर्तमान में जब ब्राह्मण प्रतिनिधित्व की बात आती है तो राजस्थान भाजपा में एक शून्य है। राजस्थान बीजेपी में आखिरी बार घनश्याम तिवारी के रूप में एक बड़े कद के ब्राह्मण नेता थे, जो छह बार विधायक रहे। उन्होंने तत्कालीन बीजेपी सीएम वसुंधरा राजे के साथ अपने मतभेदों के बाद पार्टी छोड़ दी थी। तिवारी की पार्टी 2018 के विधानसभा चुनाव में अपनी छाप छोड़ने में विफल रहने के बाद, वो कांग्रेस में शामिल हो गए। जबकि वह अंततः भाजपा में लौट आए और पार्टी ने उन्हें पिछले साल राज्यसभा सदस्य बनाया। तिवारी पिछले साल दिसंबर में 75 वर्ष के हो गए।इसे भी पढ़ें: Rajasthan के नागौर में राजस्व पटवारी रिश्वत लेते गिरफ्तारमेवाड़ से ही कटारिया को बनाया राज्यपाल47 साल के जोशी बहुत छोटे हैं निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष पूनिया से भी छोटे हैं जो 58 साल के हैं। सप्ताहांत में आयोजित एक ब्राह्मण महापंचायत में केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव को भाजपा के लिए समुदाय के नए चेहरे के रूप में मनाया गया। हालांकि, वैष्णव पर जोशी के पास कई फायदे हैं, जिसमें यह तथ्य भी शामिल है कि वह केंद्रीय मंत्री की तुलना में एक संगठन के व्यक्ति हैं, जो अपने करियर के अधिकांश नौकरशाह रहे हैं। महापंचायत में वक्ताओं में से एक जोशी थे। उन्होंने सभा को बताया: “देश और दुनिया इस बात से सहमत हैं कि अगर कोई दुनिया को चलाता है, तो वह देवता हैं। मंत्र ही हैं जो देवताओं को चलाते हैं। और उन मंत्रों का जाप कौन करता है? ब्राह्मण सम्प्रदाय है। इसलिए इस समुदाय द्वारा दिया गया सम्मान अकारण नहीं है। आगे ब्राह्मणों की प्रशंसा करते हुए, उन्होंने कहा कि समुदाय से संबंधित क्रांतिकारी भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सबसे आगे थे। जोशी को प्रदेशाध्यक्ष बनाकर बीजेपी ने मेवाड़ को साधने की भी कोशिश की है जहां ब्राह्मण और वैश्य एक बड़ा वोट बैंक है। मालूम हो कि बीते दिनों मेवाड़ से ही बीजेपी ने गुलाब चंद कटारिया को असम का राज्यपाल बनाया था।