अजित पवार के NDA में रहने से फायदा या नुकसान, क्या कहता है महाराष्ट्र का ताजा सर्वे

मुंबई: महाराष्ट्र में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP)को लेकर राजनीति गरमाई हुई है। 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले विपक्षी I.N.D.I.A गठबंधन को मजबूत करने में जुटे दिग्गज नेता शरद पवार के हाथों से उनकी अपनी पार्टी निकल गई है। चुनाव आयोग ने अजित पवार की अगुवाई वाले गुट को असली एनसीपी करार दिया है। फैसले के बाद शरद पवार ने अपने गुट के लिए चुनाव आयोग से नया नाम (NCP शरदचंद्र पवार) लिया है। इस बीच टाइम्स नाउ नवभारत ने एनसीपी नेता अजित पवार (Ajit Pawar) को लेकर सर्वे किया है। इसमें पूछा गया है कि अजित पवार के एनडीए के साथ रहने पर कितना लाभ होगा? महाराष्ट्र में महायुति यानी ग्रैंड अलांयस एनडीए का रूप है। विपक्ष गठबंधन का नाम महाविकास आघाडी (MVA) है। सर्वे में सामने आई ये तस्वीर टाइम्स नाउ नवभारत के जन मन गण सर्वे में फीसदी लोगों ने यह माना है बहुत ज्यादा फर्क पड़ेगा। तो वहीं 32 फीसदी लोगों ने कहा कि कुछ हद तक फर्क पड़ेगा। सर्वे में भाग लेने वाले 18% लोगों ने कहा है कि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। सर्वे में नुकसान होगा- 22 फीसदी ने कहा कि अजित पवार (Ajit Pawar) के एनडीए में रहने पर नुकसान होगा। अजित पवार पिछले साल 2 जुलाई, 2023 को बीजेपी और शिवसेना (शिंदे) की अगुवाई वाले महायुति गठबंधन में शामिल हो गए थे। उन्होंने एनसीपी के नौ विधायकों के साथ उप मुख्यमंत्री की शपथ ली थी। मराठा आंदोलन पर जानें राय टाइम्स नाउ नवभारत ने अपने जन मन गण सर्वे में मराठा आरक्षण आंदोलन खत्म होने के मुद्दे पर भी लोगों की मन टटोला है। इसमें पूछा गया था कि मराठा आंदोलन के खत्म होने से चुनाव में NDA के प्रदर्शन पर कितना प्रभाव पड़ेगा? इसमें 42% ने कहा है कि बहुत ज्यादा फर्क पड़ेगा। 34% ने कहा कि कुछ हद तक फर्क पड़ेगा, जबकि 18% फीसदी ने माना है कि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। सर्वे में शामिल 6% ने नुकसान होने का अनुमान व्यक्त किया है। किसको-कितनी सीटें मिलेंगी? टाइम्स नाउ नवभारत ने अपने सर्वे में महाराष्ट्र की लोकसभा सीटों को लेकर भी अनुमान लगाया है। सर्वे में कहा गया है कि 2024 लोकसभा चुनावों में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए के 39 सीटें हासिल हो सकती है, जब कांग्रेस और उद्धव के साथ शरद गुट को 9 सीटें मिल सकती हैं। ये सभी दल I.N.D.I.A अलायंस यानी की महाविकास आघाड़ी में शामिल हैं। राज्य में लाेसभा की कुल 48 सीटें हैं। पिछली बार बीजेपी और शिवसेना गठबंधन को 41 सीटों पर जीत मिली थी।