आज IPL खेलते तो सबसे महंगे बिकते विवियन रिचर्ड्स, 12 साल 11 महीने और 21 दिन अटूट था रिकॉर्ड

नई दिल्ली: अपने दौर के सबसे विस्फोटक बल्लेबाज रहे विवियन रिचर्ड्स का आज 71वां बर्थडे है। 7 मार्च 1952 को एंटिगा और बारबडोस के सेंट जोंस में पैदा हुए रिचर्ड्स ने अपनी कप्तानी में कैरेबियाई टीम को कई मैच जिताए। विवियन रिचर्ड्स क्रिकेट के उन चुनिंदा खिलाड़ियों में से हैं, जिन्हें ‘सर’ की उपाधि दी गई। वह अपने देश के लिए क्रिकेट और फुटबॉल दोनों वर्ल्ड कप में खेले। 1974 फीफा वर्ल्ड कप में उन्होंने एंटिगा की ओर से क्वालिफाइंग राउंड में दम दिखाया था।17 साल में कभी हेलमेट नहीं पहनाअपने 17 साल के करियर में विवियन रिचर्ड्स ने कभी हेलमेट का इस्तेमाल नहीं किया। 70s, 80s का ये वो दौर था, जब तेज गेंदबाजों का आतंक था। क्रिकेट पिच भी पेसर्स के मुफीद बनाई जाती थी। दाएं हाथ के बल्लेबाज रिचर्ड्स राइट आर्म ऑफ ब्रेक बोलिंग भी करते थे। IPL में लगती सबसे ऊंची बोली!विवियन रिचर्ड्स ने टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 50 से ज्यादा की औसत से 8540 रन बनाए। इस दौरान 24 शतक, 45 अर्धशतक ठोके और 32 विकेट भी चटकाए। वनडे में 47 की औसत से 6721 रन बनाए। वनडे में 11 सेंचुरी और 45 फिफ्टी के साथ 118 विकेट झटके। न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेटर इयान स्मिथ ने एकबार कहा था कि टी-20 फॉर्मेट में विवियन रिचडर्स फैंस के पसंदीदा बल्लेबाज होते और फ्रैंचाइजी उनके लिए तिजोरी खोल देते। उन्हें अपने साथ जोड़ने के लिए टीमों के बीच होड़ लगी रहती। एक भी टेस्ट सीरीज नहीं हारीसाल 1977 में उन्हें विजडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर तो साल 2022 में विजडन बेस्ट वनडे क्रिकेटर ऑफ ऑलटाइम के अवॉर्ड से नवाजा गया। आपको जानकर हैरानी होगी कि विवियन रिचर्ड्स ने अपनी कप्तानी में एक भी टेस्ट सीरीज नहीं गंवाई। 2023 आईपीएल में वह बतौर मेंटॉर दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम से जुड़े थे। एंटिगा में उनके नाम से एक भव्य स्टेडियम स्थित है।13 साल कायम रहने वाला रिकॉर्डविवियन रिचर्ड्स ने इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर वनडे में नाबाद 189 की धमाकेदार पारी खेली थी। वन-डे में एक पारी में सबसे बड़े स्कोर को सबसे लंबे समय तक बचाए रखने का यह रिकॉर्ड आज भी कायम है। पाकिस्तान के सईद अनवर उनके इस रिकॉर्ड को तोड़ने के करीब पहुंचे थे। अनवर ने 21 मई 1997 को भारत के खिलाफ चेन्नई में 194 रन बनाकर रिचर्डस का रिकॉर्ड तोड़ा था। पाक ओपनर के नाम पर 12 साल और नौ महीने तक यह रिकॉर्ड दर्ज रहा।