Rajasthan में कांग्रेस में कुर्सी का झगड़ा: Vasundhara Raje

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने शनिवार को कहा कि राज्‍य में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच कुर्सी का झगड़ा है और इसका खामियाजा राज्य की जनता को भुगतना पड़ रहा है।
राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत और पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट के बीच राजनीतिक खींचतान की ओर इशारा करते हुए राजे ने कहा, ‘‘आज अशोक गहलोत कहते हैं क‍ि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) दूसरी सरकारों को अपने हाथ में लेने की कोशिश करती है लेकिन सच तो यह है कि 2008, 2018 में उन्‍होंने भी जो सरकार बनाई वह जोड़-तोड़ की सरकार बनाई।’’
राजे ने कहा, ‘‘(गहलोत) अल्‍पमत में तब भी थे और आज भी हैं। उनकी पार्टी के विधायक उनके खिलाफ हैं और उनमें मंत्री रोज विरोध में कुछ न कुछ बात करते रहते हैं।’’
राजे भरतपुर में पार्टी के बूथ अध्यक्ष ‘संकल्प महासम्मेलन’ को संबोधित कर रही थीं, जहां मंच पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मौजूद थे।
राजे ने कहा, ‘‘अराजकता, आतंक, अन्‍याय और बेरोजगारी… राजस्‍थान, इस सरकार का पर्याय बन गया है। यहां झगड़ा हो रहा है… यहां कांग्रेस का एक व्‍यक्ति तो कुर्सी छोड़ना नहीं चाहता है तो दूसरा कहता है कि कुर्सी मैं उसे देने नहीं दूंगा, उस कुर्सी पर मैं डटा रहूंगा। उनके बीच में राजस्‍थान की जनता पिस रही है।’’
उल्लेखनीय है कि पायलट ने पूर्ववर्ती वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली सरकार के कार्यकाल में हुए कथित भ्रष्टाचार के मामलों में मौजूदा गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा कार्रवाई नहीं क‍िए जाने के विरोध में मंगलवार को जयपुर में एक दिवसीय ‘अनशन’ किया था।
बूथ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए, राजे ने पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) के बारे में बात की। राजे ने कहा, ‘‘उनकी पूववर्ती सरकार ने इस योजना की परिकल्‍पना की थी लेकिन मुझे अफसोस है कि गहलोत ने इसके लिए पर्याप्‍त दृढ़ इच्‍छा शक्ति नहीं दिखाई और इसे आगे बढ़ाने के लिए काम ही नहीं किया। वे केवल बात करते रहें।’’
उल्‍लेखनीय है कि गहलोत लंबे समय से इस परियोजना को ‘केंद्रीय परियोजना’ का दर्जा देने की मांग कर रहे हैं।
राजे ने कटाक्ष करते हुए कहा, ‘‘कांग्रेस की गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार ने महिला अत्‍याचार, दलित अत्‍याचार, भ्रष्‍टाचार, बेरोजगारी और सांप्रदायिक उन्‍माद में बहुत ऊंचाई नापी है।