दशहरा रैली में ‘असली’ शिवसेना की लड़ाई, वार-पलटवार में उद्धव-शिंदे का टशन

शिवसेना के इतिहास में पहली बार एक साथ दो दशहरा रैली मुंबई में देखने को मिली. शिवाजी पार्क में उद्धव ठाकरे तो बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स में सीएम एकनाथ शिंदे ने रैली को संबोधित किया. इस दौरान दोनों की आपसी टशन साफ नजर आई. उद्धव ठाकरे ने शिंदे पर जमकर हमला किया. वहीं, दूसरी तरफ सीएम एकनाथ शिंदे ने भी ठाकरे के एक-एक हमले का तीखा जवाब दिया. रैली में ठाकरे ने शिंदे की तुलना कटप्पा से कर डाली. इतना ही नहीं उन्होंने गिरगिट, गद्दार और बाप चुराने वाला तक बता दिया. ठाकरे ने अमित शाह को बीजेपी का गृहमंत्री बताया.
वहीं, सीएम एकनाथ शिंदे ने ठाकरे के एक-एक हमले का करारा जवाब दिया. शिंदे ने ठाकरे को बालासाहेब के संस्कारों से छल करने वाला बताया. उन्होंने यह भी कहा कि सीएम की कुर्सी के लिए पीएम की फोटो के जरिए वोट मांगे और बालासाहेब के विचारों को छोड़ दिया. इतना ही नहीं शिंदे ने यह भी कहा कि ठाकरे ने बालासाहेब के विचारों के साथ आपने गद्दारी की है. रैली में ठाकरे और शिंदे के टशन की चर्चा सियासी गलियारों में भी तेज हो गई है. जिसके चलते महाराष्ट्र की सियासत भी गरमाई नजर आ रही है.
वार-पलटवार में जानें ठाकरे-शिंदे का टशन
उद्धव ठाकरे ने कहा- बाप चुराने वालों की क्या बात करूं? न खुद के विचार, न खुद का संस्कार.
शिंदे का पलटवार- हमने तो बालासाहेब के विचारों को अपनाया. आपने उनके विचार बेच दिए. आप तो बाप बेचने निकले. असली गद्दार कौन?
उद्धव ठाकरे ने कहा- ये हैं कटप्पा, क्योंकि यह साथ रह कर शिवसेना के खिलाफ कट (साजिश) रच रहे थे.
शिंदे का पलटवार- कटप्पा स्वाभिमानी था. आपकी तरह दोगला नहीं. दिन-रात मैंने शिवसेना के लिए एक कर दिया. मुझ पर 100 केसेस हैं, आप पर कितने केसेस हैं?
उद्धव ठाकरे ने कहा- गिरगिट का अपना कोई रंग नहीं होता, गिरगिट जैसे लोग मौका देखकर अपना रंग बदलते हैं. आने वाले हर चुनाव में उन्हें उनकी औकात दिखा देगें.
शिंदे का पलटवार- 2019 में मुझे उप मुख्यमंत्री बनाए जाने की बात चल रही थी. मैंने बिना विचार किए आपको आगे बढ़ाया. हम छोड़ने वाले लोग ठाकरे जी. लेकिन आपने सीएम की कुर्सी के लिए बालासाहेब के विचारों को छोड़ दिया.
उद्धव ठाकरे ने कहा- एक भी निष्ठावान शिवसैनिक मुझे कहता गेट आउट, तो मैं एक पल में राजनीति छोड़ देता. लेकिन इन गद्दारों का कहना मानूं? बीजेपी ने पीठ पर खंजर घोंपा.
शिंदे का पलटवार – हमने गद्दारी नहीं की हमने गदर किया है. हमने क्रांति की है. बालासाहेब के विचारों के साथ आपने गद्दारी की. 2019 में पीएम मोदी की तस्वीर दिखाकर वोट मांगे और सीएम की कुर्सी पर बैठ गए.
उद्धव ठाकरे ने कहा- अमित शाह हमें क्या जमीन दिखाएंगे?, हम जमीन के लोग हैं. पहले पीओके की जमीन को भारत में लाकर दिखाएं
शिंदे का पलटवार – बालासाहेब का सपना था कश्मीर से धारा 370 हटे, अमित शाह ने वो कर दिखाया. आपने उनसे धोखा किया. शाह को अफजल खान कहा और जिन्होंने बालासाहेब ठाकरे को गिरफ्तार किया, आप उनके साथ चले गए.