फौजी हत्याकांड में दो सगे भाई दोषी करार : एक को फांसी, दूसरे को उम्रकैद की सजा

बरेली कैंट में चर्चित फौजी हत्याकांड मामले में बुधवार को अदालत ने दो सगे भाइयों को दोषी ठहराते हुए उनमें से एक को फांसी और दूसरे को आजीवन कारावास की सजा सुनाई।
मार्च 2018 में जिले के कैंट इलाके में बीच चौराहे पर लांस नायक अनिल की गोली मारकर हत्या किये जाने के चर्चित मामले में फैसला सुनाये जाने के दौरान कचहरी में बड़ी संख्या में पूर्व सैनिक और जाट रेजीमेंट से जुड़े फौजी जवान भी मौजूद थे।
बरेली के जिला शासकीय अधिवक्ता (फौजदारी) सुनिति पाठक ने बताया कि अपर सत्र न्यायाधीश ज्ञानेन्द्र त्रिपाठी की अदालत ने यह फैसला सुनाया। इसमें हत्या के मामले में मुख्य आरोपी ध्रुव चौधरी को मृत्युदंड और उसके भाई राजेश चौधरी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई। दोनों पर 10-10 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है।
उन्होंने बताया कि 21 मार्च 2018 को कैंट इलाके में दिनदहाड़े बीच चौराहे पर लांस नायक अनिल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। यह वारदात छेड़छाड़ को लेकर हुई थी और ध्रुव चौधरी ने सरेआम अनिल की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में उसके भाई राजेश को भी अभियुक्त बनाया गया था।
पाठक ने बताया कि राजेश भी फौज में था और वह अनिल की पत्नी से छेड़छाड़ करता था। इसी बात को लेकर कुछ दिन पहले राजेश और अनिल के बीच झगड़ा हुआ था। इसी का बदला लेने के लिए ध्रुव ने अनिल की गोली मारकर हत्या कर दी थी।