ट्यूनीशिया ने विश्व कप फुटबॉल मैच में डेनमार्क को गोलरहित ड्रॉ पर रोका

ट्यूनीशिया ने विश्व कप फुटबॉल में मंगलवार को यूरोपीय चैंपियनशिप के सेमीफाइनलिस्ट डेनमार्क को गोल रहित से ड्रॉ पर रोका दिया। यह मौजूदा टूर्नामेंट का पहला गोलरहित मैच है।
सऊदी अरब की अर्जेंटीना पर उलटफेर भरी जीत के बाद हुए ग्रुप डी के इस मैच के दौरान स्टेडियम ट्यूनीशिया के समर्थकों से भरा हुआ था। ट्यूनीशिया पहली बार खाड़ी देश में हो रहे विश्व कप में प्रतिस्पर्धा कर रही इस क्षेत्र की चार टीमों में से एक है और डेनमार्क को बराबरी पर रोकना उसके लिए उपलब्धि की तरह है।
मैच के दौरान ट्यूनीशिया ने बेहतर मौके बनाए। टीम दूसरे हाफ की शुरूआत में बढ़त हासिल करने के करीब पहुंच गई थी लेकिन डेनमार्क के गोलकीपर कैस्पर शमीचेल ने शानदार बचाव किया।
डेनमार्क के क्लब ओडेंस के लिए खेलने वाले इस्साम जेबाली के दमदार प्रयास को शमीचेल ने शानदार तरीके से गोल पोस्ट से दूर कर दिया।
उन्होंने इस शानदार बचाव से अपने पिता और मैनचेस्टर यूनाइटेड के पूर्व दिग्गज पीटर शमीचेल की याद दिला दी जो इसी तरह से गोल का बचाव करते थे।
इस मुकाबले से डेनमार्क के क्रिश्चियन एरिक्सन ने बड़े टूर्नामेंट में वापसी की। उन्हें लगभग डेढ़ साल पहले यूरो 2020 के मैच के दौरान दिल का दौरा पड़ा था।
उन्होंने मैच में कई शानदार मौके बनाये लेकिन सफलता नहीं मिली। उनके दूर से लगाये एक शानदार प्रयास को ट्यूनीशिया के गोलकीपर अयमेन दाहमेने विफल कर दिया।
मैच के आखिरी मिनटों में ट्यूनीशिया पर पेनल्टी का खतरा मंडराया लेकिन हाथ से गेंद लगाने की  वीडियो सहायक रेफरी की मदद से समीक्षा के बाद खेल को जारी रखने का फैसला किया गया।
डेनमार्क की टीम पिछले साल के यूरो 2020 में अपने प्रदर्शन के बाद से शानदार लय में है तो वहीं ट्यूनीशिया अपने छठे विश्व कप अभियान में पहली बार ग्रुप स्टेज से आगे बढ़ने की कोशिश कर रहा है।
ट्यूनीशिया के मिडफील्डर अइसा लाइडौनी ने मैच के शुरूआत में ही आक्रामक स्लाइडिंग टैकल के साथ एरिक्सन से गेंद को अपने नियंत्रण में लेकर टीम का दमखम दिखाया। उनके इस प्रयास के बाद पूरा स्टेडियम ट्यूनीशिया के प्रशंसकों की शोर से गूंजने लगा।
दोनों टीमों ने गोल करने के 13 मौके बनाये पर किसी को सफलता नहीं मिली।
दोनों टीमें का अगला मैच 26 नवंबर को होगा। डेनमार्क का मुकाबला फ्रांस और ट्यूनीशिया का सामना ऑस्ट्रेलिया से होगा।