आज आसमान में चांद के साथ पार्टी करेंगे 5 ग्रह, जानिए कब और कैसे देखें ‘ प्‍लैनेट परेड’

लंदन: बुध, बृहस्‍पति, शुक्र, अरुण, मंगल और चंद्रमा, आज आसमान में सारे गृह पार्टी करते नजर आएंगे। ये सारे ग्रह आज चांद के करीब होंगे और पूरी दुनिया में यह नजारा साफ नजर आएगा। चांद के साथ ये सभी ग्रह एक लाइन में नजर आएंगे और इसे एक असाधारण खगोलीय घटना करार दिया जा रहा है। सबसे दिलचस्‍प बात है कि आपको इन सभी ग्रहों को देखने के लिए दूरबीन की जरूरत भी नहीं पड़ेगी। बुध और अरुण दो ऐसे ग्रह हैं जिनका पता लगा पाना काफी मुश्किल होगा। ऐसे में इन्‍हें देखने के लिए आप चाहें तो दूरबीन या फिर टेलीस्‍कोप का प्रयोग कर सकते हैं। 30 मिनट में हो जाएंगे गायब मंगलवार को सूरज अस्‍त होने के बाद आप इस ‘प्‍लैनेट परेड’ का दीदार कर सकते हैं। 30 मिनट के बाद ये ग्रह आसमान से गायब होना शुरू हो जाएंगे। ऐसे में आपको बहुत तेजी से एक्‍शन लेना होगा। अगर आपने यह नजारा मिस कर दिया तो फिर साल 2040 में यानी 17 साल बाद ही आप इसे देख पाएंगे। जैसे ही सूरज अस्‍त हो जाए तो आप पश्चिम दिशा की तरफ देखिएगा। नासा के उल्कापिंड पर्यावरण कार्यालय के लीड बिल कुक ने कहा, ‘आप इन ग्रहों को 50 डिग्री या इससे ज्‍यादा लंबी एक लाइन में देख सकते हैं।’ बिल कुक ने जो कहा है, उसके मुताबिक ग्रह आकाश के क्षितिज से लगभग आधे रास्ते तक फैले होंगे।शुक्र ग्रह सबसे चमकदार शुक्र ग्रह को ‘सुबह का तारा’ कहा जाता है और यह ग्रह सबसे चमकदार नजर आएगा। अगर आप ऐसे इलाके में हैं जहां पर प्रदूषण की वजह से बराबर रोशनी नहीं है, तो भी आप इसे देख सकते हैं। मंगल ग्रह भी नजर आएगा और यह चांद के एकदम करीब होगा। भारत में इस दृश्‍य को 28 मार्च की शाम 6 बजकर 36 मिनट से अगले 30 मिनट तक के लिए देखा जा सकेगा। शाम सात बजकर 15 मिनट तक इन ग्रहों को सबसे अच्‍छी तरह से देखा जा सकेगा। खास बात है कि बुध और बृहस्पति तेजी से क्षितिज की तरफ आएंगे और फिर 30 मिनट बाद गायब हो जाएंगे। भारत में दोनों ग्रह 7:06 मिनट पर गायब हो जाएंगे। सौर मंडल में फैले हैं ग्रह सारे ग्रह काफी चमकदार नजर आएंगे। जबकि शुक्र, मंगल और बृहस्‍पति को देखना अपने आप में खास होगा। जबकि बुध और अरुण ग्रह को देखने के लिए आपको दूरबीन की जरूरत पड़ेगी। रॉयल ऑब्जर्वेटरी ग्रीनविच के खगोलविद जेक फोस्टर ने कहा कि इस तरह का अलाइनमेंट पृथ्वी से इंसानों के दृष्टिकोण के लिए बहुत खास है। उन्‍होंने बताया, ‘ये ग्रह अभी एक साथ नहीं हैं और सभी सौर मंडल में फैले हुए हैं। लेकिन समय-समय पर वे आकाश में एक-दूसरे के इतने करीब आ जाते हैं कि हम काफी कुछ देख पाते हैं।’