बंद कमरे में अंगीठी जलाकर सो रहे बुजुर्ग दंपति समेत तीन की मौत

कानपुर। कानपुर के बसंती नगर में कमरे में अंगीठी का धुआं भरने से एक बुजुर्ग दंपति और उनके 52 वर्षीय बेटे की सोमवार को कथित रूप से दम घुटने से मौत हो गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि सर्द रात में ठंड से बचने के लिए परिवार एक छोटे से कमरे में कोयले की अंगीठी जलाकर सो रहा था जिससे कक्ष में जहरीली गैस भर गई और तीन लोगों की मौत हो गई। पुलिस के मुताबिक, वहीं परिवार के सदस्य निमिषा शर्मा (24) और उनके भाई ध्रुव (18) को गंभीर हालत में लाला लाजपत राय (एलएलआर) अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने बताया कि मृतकों की पहचान पूरन चंद शर्मा (80), उनकी पत्नी मिथिलेश शर्मा (78) और उनके बेटे नरेंद्र कुमार शर्मा (52) के रूप में की गई है।  इसे भी पढ़ें: NASA के अंतरिक्ष यान ने भारत के Chandrayaan 3 के लैंडर का चंद्रमा की सतह पर पता लगायापुलिस उपायुक्त (दक्षिण) रवींद्र कुमार ने कहा कि सोमवार सुबह एक दूधवाला दूध देने के लिए उनके घर पहुंचा और दरवाज़े पर बार-बार दस्तक देने के बावजूद उसे अंदर से कोई जवाब नहीं मिला तो उसने पड़ोसियों को बुलाया। कुमार ने बताया कि पड़ोसियों ने कमरे का दरवाजा तोड़ा तो अंदर धुआं भरा हुआ था। पुलिस उपायुक्त ने कहा कि कमरे में सभी पांच सदस्य बेहोश पड़े थे। एक अधिकारी ने कहा कि शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।