फुल टल्ली, बाइक पर तीन-तीन… दिल्लीवालों ने इस होली रेकॉर्ड ही तोड़ दिया

नई दिल्ली: होली (Holi) के दिन दिल्ली वालों ने हुड़दंग के मामले में एक नया ही रिकॉर्ड बना दिया है। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस (Delhi Traffic Police) को भी इस बात का अंदाजा था और यही वजह थी कि तैयारी पूरी की गई। हालांकि सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त और तमाम कोशिश के बावजूद भी लोग अपनी आदतों से बाज नहीं आए। शराब पीकर गाड़ी चलाने (Drunk Driving) से लेकर और कई दूसरे मामलों में होली के दिन 8 मार्च को रिकॉर्ड संख्या में चालान हुए। बाइक पर तो ऐसा लगा कि तीन सवारी को अनिवार्य मान लिया। पिछले कुछ सालों के आंकड़ों को देखें तो नंबर काफी अधिक है। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने होली को लेकर एक योजना बनाकर यह सुनिश्चिच करने का प्रयास किया था कि सुरक्षितऔर व्यवस्थित तरीके से होली मनाई जाए। दिल्ली यातायात पुलिस की ओर से कुल 7643 चालान किए गए, जिसमें शराब पीकर गाड़ी चलाने के लिए 559 चालान, दोपहिया पर ट्रिपल राइडिंग के लिए 698, हेलमेट का उपयोग किए बिना सवार / पीछे बैठने वाले सवार के लिए 3410, सीट बेल्ट के बिना ड्राइविंग के लिए 312, टिंटेड ग्लास के लिए 215 और 2449 अन्य चालान शामिल हैं। विभिन्न स्थानों पर पुलिस कर्मियों की उपस्थिति और सख्त यातायात नियम के कारण भी होली के दिन शहर में अब तक होने वाली जानलेवा दुर्घटनाओं में कमी आई है। क्योंकि पूरे शहर में होली के दिन केवल 05 जानलेवा दुर्घटनाओं की सूचना मिली है। यह वर्ष 2020 में होली के दिन हुई 09 गंभीर दुर्घटनाओं, 2021 में कुल 05 गंभीर दुर्घटनाओं और वर्ष 2022 में कुल 09 जानलेवा दुर्घटनाओं से कम है । पुराने मामलों को लेकर विश्लेषण करने पर वर्ष 2022 में होली के दिन हुई दुर्घटनाओं की संख्या 26 थी। लेकिन वर्ष 2023 में रणनीतिक, सख्त और चौकस यातायात व्यवस्था के कारण ये दुर्घटनाएं घटकर 12 रह गयी। दूसरी ओर वर्ष 2022 में प्रति दिन साधारण दुर्घटनाओं की औसत संख्या 11 थी और होली के दिन यह 17 थी, जबकि वर्ष 2023 में होली के दिन यह केवल 07 रह गयी है, जो स्पष्ट रूप से पिछले वर्ष की संख्या की तुलना में 58% की कमी है। इसी प्रकार कुल दुर्घटनाओं के मामले में 20 % (15 से 12 प्रतिदिन) की कमी आई है, जबकि घायल व्यक्तियों के मामले में 43 % (14 से 8 प्रतिदिन) की कमी आई है । जानलेवा दुर्घटनाओं के मामले में, वर्ष 2022 में होली के दिन संख्या 09 प्रति दिन के औसत 04 से अधिक थी, जबकि वर्ष 2023 में होली के दिन यह संख्या घटकर केवल 05 हो गई।रिपोर्ट: नवीन निश्चल