लोकसभा में ऐसे हासिल करेगी बीजेपी 400 का टारगेट! PM मोदी ने दिया जीत का मंत्र, इन दो वर्गों पर फोकस

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के लिए दूसरे राजनीतिक मुद्दों के अलावा बीजेपी का सबसे ज्यादा फोकस दो वर्ग पर है। ये हैं लाभार्थी और फर्स्ट टाइम वोटर। बीजेपी का मानना है कि केंद्र सरकार की वेलफेयर स्कीम के लाभार्थी उनके लिए बड़ा वोट बैंक हैं और इन लाभार्थियों ने हालिया विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी का साथ दिया है। साथ ही फर्स्ट टाइम वोटर को भी बीजेपी अपने करीब रखना चाहती है। बीजेपी की हर मीटिंग में कार्यकर्ताओं और नेताओं से कहा जा रहा है कि फर्स्ट टाइम वोटर और लाभार्थियों पर ध्यान लगाए रखें।पीएम मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को दिया जीत का मंत्रकेरल के दो दिन के दौरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया और उन्हें लोकसभा चुनाव के लिए जीत का मंत्र दिया। उनका फोकस भी लाभार्थी और फर्स्ट टाइम वोटर रहे। मोदी ने बीजेपी कार्यकर्ताओं से कहा कि सभी अपने बूथ पर ध्यान दें। अपने आस-पड़ोस और मोहल्ले में केंद्र सरकार की वेलफेयर स्कीम के बारे में बताएं। साथ ही अगर लोगों को किसी भी तरह की दिक्कत हो रही है तो उन्हें सुनें, समझें और उसे दूर करें। मोदी ने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे अपने बूथ एरिया में आने वाले रेहड़ी-पटरी वालों से भी संपर्क करें और उनसे केंद्र सरकार की अलग-अलग वेयरफेयर स्कीम के बारे में बात करें। मोदी ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता फर्स्ट टाइम वोटर्स से संपर्क करें और यह सनिश्चित करें कि हर फर्स्ट टाइम वोटर का नाम वोटर लिस्ट में हो। फर्स्ट टाइम वोटर्स पर फोकस करने के लिए बनाई कमिटीबीजेपी के एक नेता ने कहा कि लाभार्थी का एक बड़ा वर्ग है। 80 करोड़ के करीब लाभार्थी हैं जिन्हें केंद्र सरकार की कम से कम एक स्कीम का फायदा मिल रहा है। जिन्हें वेलफेयर स्कीम का फायदा मिल रहा है वे समझते हैं कि केंद्र सरकार ने उनके लिए और उनके जैसे करोड़ों लोगों के लिए काम किया है। इसलिए हम कार्यकर्ताओं से कह रहे हैं कि वे बार-बार लाभार्थियों से मिलें। बीजेपी नेता के मुताबिक, फर्स्ट टाइम वोटर्स ने शुरू से ही बीजेपी पर भरोसा जताया है। युवा समझते हैं कि किस तरह देश लगातार आगे बढ़ रहा है। वे सोशल मीडिया में भी एक्टिव हैं और देश दुनिया की हलचल जानते हैं। बीजेपी ने अपने राष्ट्रीय महासचिव की अगुआई में फर्स्ट टाइम वोटर्स पर फोकस करने के लिए एक कमिटी भी बनाई है।