इस छूटकू शेयर ने निवेशकों को किया मालामाल, 10 साल में 10 हजार को बना दिया 16 लाख

नई दिल्ली: रिफेक्स इंडस्ट्रीज के शेयरों ने पिछले 10 साल में 16,000% रिटर्न दिया है। अगर किसी निवेशक ने 10 साल पहले इसमें 10,000 रुपये का निवेश किया होता तो आज उसकी वैल्यू करीब 16 लाख रुपये होती। इस कंपनी को रेफ्रिजरेंट गैसेज बनाने और रिफिल करने में महारत हासिल है। पिछले एक महीने में इसके शेयर में नौ फीसदी तेजी आई है जबकि तीन महीने में यह 29 फीसदी चढ़ चुका है। कंपनी में 53.37 फीसदी शेयर प्रमोटर्स के पास है जबकि 46.73 परसेंट हिस्सेदारी पब्लिक शेयरहोल्डर्स के पास है। जहां तक पब्लिक शेयरहोल्डर्स की बात है तो इसमें म्युचुअल फंड्स और विदेशी निवेशकों की कोई हिस्सेदारी नहीं है। कंपनी में 29% होल्डिंग्स रिटेल इन्वेस्टर्स के पास है।सितंबर तिमाही में इस कंपनी का ऑपरेशंस से रेवेन्यू तिमाही आधार पर आठ परसेंट की गिरावट के साथ 352 करोड़ रुपये रहा जबकि प्रॉफिट मामूली रूप से बढ़कर 21.43 करोड़ रुपये पहुंच गया। एनालिस्ट्स का कहना है कि मूमेंटम इंडिकेटर्स के मुताबिक इस स्टॉक का प्रदर्शन बेंचमार्क इंडेक्सेज से बेहतर रहेगा। अरिहंत कैपिटल के सीनियर टेक्निकल एनालिस्ट मिलीन वासुदेव का कहना है कि वीकली चार्ट में यह तेजी का संकेत दे रहा है। इसके 644 रुपये के स्टॉप लॉस के साथ 760 से 800 रुपये के टारगेट प्राइस के लिए खरीदा जा सकता है। कहां तक जा सकती है कीमतयह स्टॉक 620 रुपये के स्ट्रॉन्ग सपोर्ट के साथ अपने सभी मूविंग एवरेज से ऊपर ट्रेड कर रहा है। इसका रेजिसटेंस 750 रुपये के करीब है। आने वाली तिमाहियों में इसकी कीमत 1000 रुपये तक जा सकती है। शुक्रवार को कंपनी का शेयर बीएसई पर 0.23% गिरावट के साथ 680.20 रुपये पर बंद हुआ। इसका 52 हफ्ते का उच्चतम स्तर 923.95 रुपये है जो इसने पिछले साल दो अगस्त छुआ था। इसका 52 हफ्ते का न्यूनतम स्तर 221.30 रुपये है। पिछले साल 28 मार्च को रिफेक्स इंडस्ट्रीज का शेयर इस स्तर पर आया था।