तब मेरे पास भी उनकी फाइल आई थी…. योगी को कौन सा ‘अहसान’ याद दिला रहे अखिलेश!

रामपुर: () ने रामपुर में (Samajwadi Party) के प्रत्याशी आसिम रजा (Asim Raza) के पक्ष में प्रचार करते हुए सूबे में सत्तारूढ़ बीजेपी (BJP) सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने आजम खान के मामले में सरकार पर बदले की भावना से राजनीति करने का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री पर हमला बोला है। अखिलेश ने कहा कि उनके सीएम रहते हुए योगी आदित्यनाथ की फाइल भी आई थी।

अखिलेश ने कहा, ‘आज सत्ता में बैठकर अन्याय और जो भी कर रहे लोगों को मैं यह साफ संदेश देना चाहता हूं कि जब मैं मुख्यमंत्री था, तब आज के जो मुख्यमंत्री जी हैं उनकी भी फाइल हमारे सामने आई थी। अधिकारियों ने एफआईआर दर्ज करते हुए कार्यवाही शुरू करने को कहा था लेकिन मैं नहीं मना कर दिया। क्योंकि हम नफरत की राजनीति में विश्वास नहीं करते हैं।’

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा, ‘हमने आज के मुख्यमंत्रीजी की फाइल उसी समय बंद कर दी और इस बात की अधिकारियों से पुष्टि की जा सकती है। लेकिन अब हमें मजबूर ना करें कि जब कभी हम सत्ता में आएं तो उसी तरह की कार्यवाही करनी पड़े।’ उन्होंने आजम के खिलाफ अन्याय और जुल्म किए जाने की बात कही।

अखिलेश ने ब्रजेश पाठक का बिना नाम लिए तंज कसते हुए कहा कि वो अपने विभाग के एक सीएमओ और डॉक्टर का ट्रांसफर नहीं कर पा रहे। उसी तरह केशव प्रसाद मौर्य को लेकर सपा मुखिया ने कहा कि एक दूसरे उपमुख्यमंत्री हैं, उनका विभाग बदल दिया गया। वो जिस विभाग के मंत्री बने उस विभाग का बजट ही नहीं है।

पढ़ें:

अखिलेश यादव ने कहा कि जो सत्ता में बैठे हैं, उन्हें कानून और संविधान की परवाह नहीं है। वो न कानून मान रहे और न संविधान की। उन्होंने रामपुर क्षेत्र के लोगों से अपील की कि जो भी जोखिम उठाना पड़े उसे उठाकर वोट की ताकत से भाजपा को सत्ता से बाहर करें। अखिलेश ने कहा कि आप लोग रामपुर उपचुनाव में समाजवादी पार्टी को जिताइए। 2024 में बदलाव आएगा। उसके बाद यूपी में भाजपा की सरकार नहीं बचेगी।