सर्जिकल स्ट्राइक से ही दूर होगी मणिपुर की समस्या, BJP के सहयोगी नेता ने क्यों की ऐसी डिमांड?

राहुल गांधी के इस बयान पर विवाद के बीच कि सेना मणिपुर में स्थिति को दो दिनों में नियंत्रित कर सकती है। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने आपत्ति जताई, एनपीपी नेता एम रामेश्वर सिंह ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक जैसी प्रभावी कार्रवाई मणिपुर में किए जाने की बात कही है। नेशनल पीपुल्स पार्टी मणिपुर में बीजेपी की सहयोगी है। एम रामेश्वर सिंह ने कहा कि केंद्रीय मंत्री से यह भी अनुरोध किया था कि कुछ एजेंसियां ​​जो कहानी गढ़ने की कोशिश कर रही हैं। उसमें कहा गया है कि सभी कुकी आतंकवादी अब शिविरों में हैं और सभी हथियार उनके पास हैं। तो अब मणिपुर के लोगों को यह शंका सताने लगी है कि आखिर आग कहां से आ रही है। दूसरी तरफ से कौन फायरिंग कर रहा है? इसे भी पढ़ें: ‘भड़काऊ था राहुल गांधी का भाषण’, रविशंकर प्रसाद का आरोप- कांग्रेस नेता चाहते हैं भारतीय सेना भारतीयों को गोली मारेकेंद्रीय गृह मंत्री के बयानों से यह स्पष्ट है कि सीमा पार से कुछ अवैध अप्रवासी, अवैध कुकी उग्रवादी आ रहे हैं। और वह कहते रहे हैं कि इसमें बाहरी आक्रामकता शामिल है। यह महत्वपूर्ण है कि न केवल मणिपुर के लिए कि सर्जिकल स्ट्राइक जैसा कुछ प्रभावी, प्रभावकारी किया जाना चाहिए ताकि समस्या हमेशा के लिए हल हो जाए। यह बयान राहुल गांधी के उस बयान पर विवाद के बीच आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि भारतीय सेना को मणिपुर में स्थिति को नियंत्रण में लाने में तीन दिन नहीं लगेंगे। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने टिप्पणी की आलोचना की और कहा कि सेना कुछ नहीं कर पाएगी क्योंकि मणिपुर की स्थिति का समाधान दिलों से निकलना होगा, गोलियों से नहीं। हिमंत ने कहा कि क्या राहुल गांधी सुझाव दे रहे हैं कि सेना को निर्दोष लोगों पर गोली चलानी चाहिए? भारतीय वायु सेना ने 1966 में भी यही किया था। उन्होंने कहा कि सेना की तैनाती से मणिपुर में कुकी-मैतेई संकट का स्थायी समाधान नहीं होगा।इसे भी पढ़ें: ‘हमें मजबूर होकर लाना पड़ा अविश्वास प्रस्ताव’, Adhir Ranjan बोले- PM हर मुद्दे पर बोलते हैं, Manipur पर चुप क्यों?बीजेपी सांसद रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी की सोच लोकतांत्रिक नहीं है। भाजपा सांसद ने कहा कि वह चाहते हैं कि भारतीय सेना भारतीयों को गोली मार दे। कुकी और मैतेई समुदायों के बीच झड़प के बाद पूरे राज्य में हिंसा फैलने के बाद मई से ही मणिपुर में आग लगी हुई है। जुलाई में दो कुकी महिलाओं को नग्न परेड करने का एक वीडियो सामने आया, जिससे देश भर में आक्रोश फैल गया।