Rajasthan की पॉलिटिक्स में Corona की एंट्री, पायलट-गहलोत के बीच गजब है खेल

जयपुर: राजस्थान प्रदेश कांग्रेस में लम्बे समय से चल रही गुजबाजी में कई तरह की बयानबाजी सामने आ रही है। अशोक गहलोत और सचिन पायलट गुट के बीच कई तरह के आरोप प्रत्यारोप लग रहे हैं। नालायक, निकम्मा और गद्दार जैसे आरोपों के बाद कांग्रेस में अब कोरोना ने भी एंट्री मार ली है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सचिवालय में हुई बैठक के दौरान यह कह दिया कि हमारी पार्टी के अंदर एक बड़ा कोरोना आ गया है। आप समझ सकते हैं कि गहलोत का इशारा किस तरफ था। जैसे ही गहलोत ने यह कहा कि हमारी पार्टी के अंदर एक बड़ा कोरोना आ गया है, उसी दौरान बैठक में मौजूद कई अफसर, नेता और कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधि ठहाके लगाकर हंस पड़े।

दरअसल, बुधवार 18 जनवरी को सचिवालय में कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत संवाद कर रहे थे। इसी दौरान एक कर्मचारी नेता ने मुख्यमंत्री से कहा कि आप कर्मचारियों द्वारा बार बार आग्रह करने पर भी मिलते नहीं हो।

इसका जबाव देते हुए गहलोत ने कहा कि अब मैं मिलने लगा हूं। पहले कभी उपचुनाव, कभी राज्यसभा चुनाव कभी कोरोना आ गया था। गहलोत ने हंसते हुए यह भी कहा कि एक बड़ा कोरोना तो हमारी पार्टी के अंदर भी आ गया है। गहलोत ने सचिन पायलट का नाम तो नहीं लिया लेकिन उनका इशारा पायलट की ओर था।

पायलट ने भी वसुंधरा के बहाने जमकर हमला किया

उधर, पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने भी भ्रष्टाचारियों पर लगाम की बात पर गहलोत को घेरा है। पायलट ने पाली में एक सभा में कहा कि पिछली कांग्रेस सरकार भ्रष्टाचार की जांच के लिए माथुर आयोग बनाया था। लेकिन दुर्भाग्यवश यह आयोग कुछ नहीं कर सका। इस कार्यकाल में भी 4 साल बीत चुके हैं। उम्मीद है अब 11 महीनों में भाजपा सरकार के भ्रष्टाचार की जांच होगी।