चलती हुई बस में ड्राइवर को पड़ा दिल का दौरा, मरते हुए भी चालक ने दिखाई समझदारी, बचा ली 60 यात्रियों की जान

मरणासन्न ड्राइवर ने दिल का दौरा पड़ने से पहले बस रोककर 60 से अधिक यात्रियों की जान बचा ली। पुलिस ने कहा कि मंगलवार को ओडिशा के बालासोर जिले में बस चलाते समय दिल का दौरा पड़ने से एक व्यक्ति की मौत हो गई, लेकिन समय पर वाहन रोकने से 60 से अधिक यात्रियों की जान बच गई। यह घटना मंगलवार तड़के ओडिशा के बालासोर जिले के पातापुर चक में हुई। इसे भी पढ़ें: ‘मैं मर चुका था, मेरा दूसरा जन्म हुआ… दिल का दौरा पड़ने के बाद अब ठीक हुए Shreyas Talpade, शेयर किया अपना अनुभवप्रारंभिक जानकारी का हवाला देते हुए पुलिस ने बताया कि पश्चिम बंगाल से पर्यटकों को लेकर बस जिले के पंचलिंगेश्वर मंदिर की ओर जा रही थी, तभी ड्राइवर को दिल का दौरा पड़ा। दर्द महसूस होते ही ड्राइवर ने बस को सड़क के किनारे रोक दिया और बेहोश हो गया. घबराए यात्रियों ने स्थानीय लोगों को बुलाया, जिन्होंने शेख अख्तर नाम के ड्राइवर को पास के नीलगिरि उपमंडलीय अस्पताल पहुंचाया। पुलिस ने बताया कि डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसे भी पढ़ें: प्रख्यात शास्त्रीय गायिका Prabha Atre का निधन, सोते समय पड़ा दिल का दौरा यात्रियों में से एक अमित दास ने कहा कि ड्राइवर अचानक बीमार हो गया और उसने बस रोक दी। सड़क के एक तरफ गाड़ी रुकते ही वह बेहोश हो गये. स्थानीय लोगों ने उसे अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। यात्रियों और स्थानीय लोगों ने ड्राइवर की सूझबूझ की सराहना की।