महाशिवरात्रि पर 21 लाख दीयों से रोशन होगी महाकाल की नगरी, वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने की तैयारी

मध्य प्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में आगामी साल 2023 में एक भव्य कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है, जो कि हफ्ते भर तक आयोजित होगा. इस कार्यक्रम की विशालता इतनी अधिक रहेगी कि रामघाट के साथ ही इसे शहर के विभिन्न स्थलों पर आयोजित किया जाएगा. वैसे तो इस आयोजन में अभी काफी समय बचा हुआ है, लेकिन आयोजन भव्यता के साथ-साथ दिव्यता से परिपूर्ण हो. इसीलिए आयोजन को लेकर अभी से तैयारियों का दौर शुरू हो चुका है.
दरअसल, इस आयोजन को लेकर शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव ने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज चौहान के अनुसार,महाशिवरात्रि 18 फरवरी 2023 से लेकर 22 मार्च 2023 तक भव्य कार्यक्रम उज्जैन में किया जाएगा. जहां हफ्तेंभर तक चलने वाले इस कार्यक्रम में 18 फरवरी 2023 को महाशिवरात्रि पर्व पर शिव दीपावली मनाकर शिप्रा नदी रामघाट एवं अन्य घाटों पर 21 लाख दीपक जलाकर गिनीज बुक मे नाम दर्ज कराया जाएगा.
शिक्षा मंत्री बोले-रामघाट पर लगाए जाएंगे 21 लाख दीपक
इसके बाद इस कार्यक्रम में रोजाना विक्रम महोत्सव के विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे. उच्च शिक्षा मंत्री डॉ यादव ने बताया कि 21 लाख दीपक रामघाट पर लगाए जाने की मंशा है, लेकिन यदि रामघाट क्षेत्र इसके लिए छोटा पड़ता है तो आगे के घाटों पर यह दीपक लगाए जाएंगे.
हफ्तें भर तक इन कार्यक्रमों का होगा आयोजन
महाशिवरात्रि से विक्रमोत्सव तक अलग-अलग तारीखों में शिव दीपावली, भक्तिपरक लोकप्रिय गायकों की प्रस्तुतियां, विविध प्रदर्शनियां, हस्तशिल्प मेला, नाट्य प्रस्तुतियां, पुस्तक मेला, मन्दिरों के श्रृंगार भजन मण्डलियों की प्रतियोगिता, अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह, राष्ट्रीय वेद समागम, वृहत्तर भारत की संस्कृति, साहित्य एवं पुरातत्व पर केन्द्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी, कवि सम्मेलन, राष्ट्रीय युवा विज्ञान महोत्सव, विक्रमादित्य वैदिक घड़ी की स्थापना, विक्रम पंचांग का प्रकाशन, वेद अंताक्षरी सहित भारत एवं दुनिया के अनेक देशों की सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का आयोजन किया जाएगा.
हालांकि,सप्ताह भर तक चलने वाला यह आयोजन शहर के विभिन्न स्थलों जैसे रामघाट, कालिदास अकादमी, त्रिवेणी संग्रहालय आदि स्थानों पर अलग-अलग तिथियों में कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा.
इस साल भी दीपक से रोशन हुआ था उज्जैन
बता दें कि, इस साल भी सीएम शिवराज सिंह चौहान की मंशानुसार महाशिवरात्रि पर्व बाबा महाकाल के आंगन के साथ-साथ रामघाट व शहर के प्रमुख स्थलों पर 21 लाख दीप जलाकर शिव ज्योति अर्पणम के रूप में धूमधाम से मनाया गया था. इस आयोजन में सिंहस्थ महापर्व की यादों को ताजा कर दिया था, हालांकि, कार्यक्रम की विशेषता थी कि इस आयोजन में प्रशासनिक अधिकारियों सामाजिक संगठनों के साथ ही सबको जिम्मेदारी दी गई थी, जिन्होंने इन जिम्मेदारियों का बखूबी निभाते हुए इस आयोजन को सफल बनाते हुए एक वर्ल्ड रिकॉर्ड कायम किया था.
कार्यक्रम को सफल बनाने की तैयारियां हुई शुरु
साल 2022 में हुए शिव ज्योति अर्पणम कार्यक्रम के बाद आगामी साल 2023 में फिर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशानुसार इस कार्यक्रम को आयोजित किया जा रहा है, जिसे भी पहले की तरह ही उज्जैनवासियों के सहयोग से सफल बनाने की तैयारियां अभी से शुरू हो चुकी है.
जल्द शुरू होगा बैठको का दौर
गौरतलब है कि, महाशिवरात्रि से विक्रम उत्सव तक आयोजित होने वाले इस आयोजन को सफल बनाने के लिए जल्द बैठकों का दौर शुरू होगा. इस आयोजन में महाशिवरात्रि के साथ ही विक्रम उत्सव को लेकर किस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जा सकते हैं. इसके लिए जहां बुद्धिजीवी आपस में विचार-विमर्श करेंगे. वहीं, प्रशासनिक अधिकारी भी आयोजन की तैयारियों को लेकर बैठक करेंगे. साथ ही इस आयोजन की रणनीति बनाएंगे.