इक्वाडोर की जेल से गायब हुआ सबसे बड़ा ड्रग माफिया, पूरे देश में दंगे, आपातकाल लागू

क्विटो: इक्वाडोर के सबसे खतरनाक अपराधियों में से एक के अपने सेल से गायब हो जाने के बाद देश भर की जेलों में दंगे हो रहे हैं। कई जेलों में दंगों के बीच गार्डों को बंधक बना लिया गया है। कई पुलिसकर्मी और जेल अधिकारियों के जख्मी होने की भी खबरें हैं। हालात बिगड़ता देख सरकार ने की स्थिति घोषित कर दी है। पूरे इक्वाडोर में हजारों सैनिक और पुलिस सोमवार से एक विशेष अभियान चला रही है। इसका मकसद शक्तिशाली ड्रग गिरोह लॉस चोनेरोस के दोषी सरगना एडोल्फो मैकियास उर्फ फिटो की तलाश करना है। जेल से गायब हो गया था ड्रग गैंग लीडर44 वर्षीय ड्रग माफिया एडोल्फो मैकियास उर्फ फिटो के रविवार को लापता होने की सूचना मिली थी। वह इक्वाडोर के बंदरगाह शहर गुआयाकिल की जेल से गायब हो गया था। वह उसी शहर में अधिकतम सुरक्षा वाली दूसरी जेल में ट्रांसफर होने के पहले अपनी सजा काट रहा था। उसके गायब होते ही पूरे देश में लगभग सभी जेलों में हिंसा भड़क उठी। एडोल्फो मैकियास के समर्थकों और गुर्गों ने जेल अधिकारियों पर हमला कर दिया। इन हमलों में कई पुलिसकर्मियों और जेल अधिकारी घायल भी हुए हैं।राष्ट्रपति ने इक्वाडोर में किया आपातकाल का ऐलानइक्वाडोर की जेलों में जारी हिंसा के बीच पिछले साल अक्टूबर में देश के राष्ट्र्रपति चुने गए डैनियल नोबोआ ने सोमवार देर रात 60 दिनों के आपातकाल की घोषणा कर दी। इस घोषणा के बाद उन्होंने कहा, “मादक पदार्थों की तस्करी, हत्या और संगठित अपराध के दोषियों के लिए सरकार को यह बताने का समय आ गया है कि क्या करना है।” राष्ट्रपति नोबोआ को पिछले साल हिंसक अपराध पर नकेल कसने के वादों के बाद चुना गया था। 35 साल के राष्ट्रपति नोबोआ ने कहा कि उनकी सरकार ने सेना और पुलिस को कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। राष्ट्रपति ने अपराधियों की दी चेतावनीनोबोआ ने सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक संदेश में कहा, “हम आतंकवादियों के साथ बातचीत नहीं करेंगे और हम तब तक आराम नहीं करेंगे जब तक हम इक्वाडोरवासियों को शांति नहीं लौटा देते।” हाल के वर्षों में, इस दक्षिण अमेरिकी देश में हिंसा की भयावह स्थिति देखी गई है। पिछली कई सरकारें संगठित अपराध गुटों पर लगाम लगाने में असमर्थ साबित हो रही हैं।