वंदे भारत में बेटिकट यात्रियों की फौज कर रही मौज, नेटिजन पूछ रहे हैं TTE कहां है

नई दिल्ली: ऐसा पहले सामान्य मेल या एक्सप्रेस ट्रेनों (Mail/Express Trains) के रिजर्व क्लास में होता था। अब ऐसा वीवीआईपी ट्रेन वंदे भारत () में भी होने लगा है। इस समय सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, लखनऊ से हरिद्वार के बीच चलने वाली के डिब्बे में ढेर सारे बेटिकट यात्रियों को भीड़ दिखाया गया है। डिब्बे में अनऑथराइज्ड पैसेंजर्स (Unauthorized Passengers) की बहुलता की वजह से बोनाफाइड पैसेंजर ट्रेन में चढ़ने और अपनी सीट पर बैठने के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं।क्या किया गया है ट्वीटयह ट्वीट अर्चित नागर नामक व्यक्ति ने @architnagar हैंडल से किया है। इस वायरल वीडियो में ट्रेन नंबर 22545 पर चढ़े कई यात्रियों को सीट ढूंढने के लिए संघर्ष करते हुए दिखाया गया है। वीडियो शेयर करते हुए एक एक्स यूजर ने लिखा, “#lucknowrailway @drmlucknow @ IndianRailMedia @ Indianrail #rail को बिना टिकट वाले यात्रियों ने जैक कर लिया @VandeभारतExp” इसे देख कर लगता है कि संबंधित व्यक्ति ने अनऑथराइज्ड पैसेंजर द्वारा हाईजैक करने की बात कर रहे हैं। इस वीडियो को अभी तक 16 हजार से भी अधिक लोगों ने देख लिया है। वायरल कैसे हुआ यह वीडियोइसी वीडियो को एक एक्स हैंडल @IndianTechGuide द्वारा पुनः शेयर किया गया है। इस बुधवार की सुबह तक 18 लाख से अधिक बार देखा लिया गया है। इस वीडियो पर ढेर सारी प्रतिक्रियाएं मिलीं, जिसमें से एक ने कहा, “यह एक बड़ी समस्या है! हाल ही में, तिरूपति-सिकंदराबाद वंदे भारत एक्सप्रेस में एक झूठा फायर अलार्म बज उठा, जब ट्रेन में एक बिना टिकट यात्री ने गाड़ी के शौचालय के अंदर सिगरेट जलाई। एक अन्य यूजर ने लिखा, “टीटी इस बकवास की इजाजत कैसे दे रहे हैं। यह रेल मंत्रालय का मज़ाक उड़ाने की एक सोची समझी चाल लगती है।” बिना भुगतान किए उपयोग करना चाहते हैंइस वीडियो पर एक यूजर ने लिखा, “समस्या वास्तव में भारत के लोगों के साथ है, एक तरफ वे विकास से नफरत करते हैं और दूसरी तरफ वे इसके लिए शुल्क का भुगतान न करके विकास का उपयोग करना चाहते हैं।” IndianFirst नाम के एक यूजर जिसका एक्स हैंडल @saurabh2al है, ने लिखा है “ये ग्रीन टोपी वाले तो वही लग रहे हैं जिन्होंने एक बार lko cdg express भी hijack करली थी… सारे AC coches में घुस गए थे… स्लीपर coach खाली थे… ये लोग संख्याबल का फायदा उठाते हैं… इस वजह से इनसे कोई कुछ बोलता नहीं. अब तो धंधा बन गया है.. झुंड में चलो.. Free में चलो”पहले भी ऐसे वीडियो हुए हैं वायरलपिछले महीने ही दिल्ली-सराय रोहिल्ला सुपरफास्ट एक्सप्रेस में फर्स्ट एसी केबिन के पास रास्ता रोके बिना टिकट यात्रियों की तस्वीरें वायरल हुई थीं। फोटो में, यात्री पांच घंटे से अधिक समय तक बाथरूम के पास बैठे रहे। बीते 25 मई को, ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस के एसी-3 कोच में जनरल डिब्बे के यात्रियों के बैठने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आया। अप्रैल में, रेल मंत्रालय ने अपने एसी कोचों में कुप्रबंधन और भीड़भाड़ के दावों को संबोधित करते हुए लोगों से इसकी छवि को “खराब न करने” के लिए कहा। “कोच का वर्तमान वीडियो। कोई भीड़-भाड़ नहीं. कृपया भ्रामक वीडियो साझा करके भारतीय रेलवे की छवि खराब न करें, ”मंत्रालय ने लगभग खाली कोच दिखाते हुए एक और वीडियो पोस्ट किया।रेलवे की कुव्यवस्था का परिणाम?रेलवे के दैनिक यात्री सहदेव बहादुर कहते हैं कि यह सब रेलवे की कुव्यवस्था का परिणाम है। लोकल पैसेंजर्स के लिए पर्याप्त ट्रेन नहीं हैं। जो ट्रेन हैं, वह भी समय पर नहीं चलते। ऐसे में डेली पैसेंजरों को मेल-एक्सप्रेस में यात्रा करनी होती है। इन ट्रेनों में जनरल कोच एक या दो कर दिए गए हैं। उनमें पहले से ही इतने पैसेंजर ठुंसे होते हैं कि आप उसके पायदान पर नहीं खड़े हो सकते। ऐसे में ट्रेन के रिजर्व कोच में यात्रा करना लोकल पैसेंजर की मजबूरी है।मुंबई या कोलकाता में नहीं होता है ऐबहादुर सवाल पूछते हैं कि क्या कभी मुंबई या कोलकाता में ऐसा होते देखे हैं? वह बताते हैं कि उन इलाकों में ऐसा बिल्कुल नहीं होता। क्योंकि वहां पर्याप्त संख्या में लोकल ट्रेन हैं। हर पांच मिनट पर लोकल ट्रेन आती है। फिर लोकल पैसेंजर क्यों मेल या एक्सप्रेस ट्रेन में चढ़ेंगे।