पुंछ में सेना के वाहन पर आतंकियों ने घात लगाकर किया हमला, कई जवान घायल

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर से एक बार फिर बड़ी खबर सामने आई है। यहां पर पुंछ में आतंकियों ने एक बार फिर सेना को निशाना बनाया है। आतंकियों ने सेना के वाहन वह कई राउंड फायर किए हैं। आतंकियों के अचानक घात लगाकर हुए इस हमले का जवाब सेना ने भी दिया। बताया जा रहा है कि एस हमले में कई जवान घायल हुए हैं। वहीं सुरक्षाबल से बचकर आतंकी भाग निकले हैं। सेना के जवानों ने सर्च अभियान शुरू कर दिया है। आतंकियों ने इससे पहले पिछले महीने भी सेना के जवानों पर हमला किया था। तब आतंकियों के खिलाफ चल रहे एनकाउंटर से जवानों की टीम लौट रही थी। तभी रास्ते में आतंकियों ने पुंछ के ही बफलियाज इलाके में वाहन पर फायरिंग शुरू कर दी थी। हमले के बाद आतंकी अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकले थे। इस घटना में सेना के 5 जवान शहीद हुए थे।पुंछ में सेना के जवानों पर हमले की 29 महीने में यह 5वीं बड़ी घटना है। इन हमलों में अब तक 21 जवान बलिदान हुए हैं। पुंछ के चमरेड इलाके में सुरक्षाबलों की तलाशी अभियान के दौरान जवानों पर हमला किया था। इस हमले में जेसीओ समेत 5 जवान शहीद हुए थे। यह वारदात अक्टूबर 2021 में हुई थी।कब-कब हुए हमलेअक्टूबर में ही भाटादूड़ियां में तलाशी अभियान के दौरान आतंकियों ने फिर फायरिंग की थी। इस हमले में 6 जवान शहीद हुए। 2023 अप्रैल में भाटादूड़ियां इलाके में ही सेना के वाहन पर ग्रेनेड हमला किया गया था। आतंकियों ने ग्रेनेट फेंकने के बाद सेने के वाहन पर फायरिंग की थी। इस हमले में पांच जवान शहीद हुए थे। बारामूला में जवान शहीदवहीं बारामूला में एक जवान के शहीद होने की खबर सामने आई है। चिनार कोर ने बताया कि बारामूला सेक्टर के फॉरवर्ड एरिया में ऑपरेशनल टास्क करते हुए गुरप्रीत सिंह के दुर्भाग्यपूर्ण निधन पर खेद व्यक्त करते हैं। गुरप्रित सिंह पंजाब के गुरदासपुर के रहने वाले थे। उनके परिवार में उनकी मां लखविंदर कौर हैं। चिनार कॉर्प्स ने कहा कि दुख की इस घड़ी में भारतीय सेना शोक संतप्त परिवार के साथ एकजुटता से खड़ा है और उनके कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है।