Telangana की राज्यपाल ने BRS सरकार पर साधा निशाना, KTR ने किया पलटवार

हैदराबाद। तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदराराजन ने शुक्रवार को कहा कि तेलंगाना के लोगों ने हाल में हुए विधानसभा चुनाव में संविधान की भावना के विरुद्ध काम करने वाली सरकार के 10 साल के तानाशाही वाले शासन को समाप्त किया है और राज्य में जनता की सरकार बनी है। वहीं, बीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामा राव ने राज्यपाल की टिप्पणियों को बकवास कहकर खारिज कर दिया।गणतंत्र दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराने के बाद राज्यपाल ने पूर्ववर्ती भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) सरकार के खिलाफ तीखी प्रतिक्रिया में कहा कि जनादेश ने बता दिया है कि तेलंगाना में अहंकार और निरंकुशता की कोई जगह नहीं है। उन्होंने कहा कि राज्य में पिछले दस साल में तबाह हुई संवैधानिक संस्थाओं, प्रणालियों और मूल्यों का पुनर्गठन किया जा रहा है तथा जनता की वर्तमान सरकार संवैधानिक मूल्यों, प्रणालियों और प्रक्रियाओं को पुनर्जीवित कर रही है। इसे भी पढ़ें: कुख्यात अपराधी से मिला Ajit Pawar का बेटा, तस्वीरें वायरल होने के बाद NCP नेता ने दी सफाईराज्यपाल ने आरोप लगाया कि पूर्ववर्ती सरकार ने पिछले 10 साल तक युवाओं के लिए रोजगार और आजीविका की पूरी तरह अनदेखी की और तेलंगाना आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले नौजवानों की सुध नहीं ली। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ए रेवंत रेड्डी की सरकार युवाओं को रोजगार देने पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित कर रही है। इसे भी पढ़ें: मजबूती से विपक्षी ‘इंडिया’ गठबंधन में हैं, लेकिन…. Congress को Umesh Singh Kushwaha ने दी सलाहबीआरएस के कार्यकारी अध्यक्ष केटी रामा राव ने राज्यपाल की टिप्पणियों को बकवास कहकर खारिज कर दिया। उन्होंने कहा, ‘‘यह (राज्यपाल की टिप्पणी) वास्तव में भयावह और निंदनीय है… राज्यपाल ने आज अपने भाषण में जो भी कहा, वह वास्तव में तेलंगाना के लोगों का अपमान करने वाला है। रामा राव ने कहा कि उनकी धारणा थी कि राज्यपाल एक भाजपा कार्यकर्ता हैं, लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा लगता है कि वह कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गई हैं।