पाकिस्तान की हार से टीम इंडिया को फायदा, अब कुछ ऐसा है फाइनल में पहुंचने का समीकरण

नई दिल्ली: बेन स्टोक्स की कप्तानी में इंग्लैंड ने मेजबान पाकिस्तान को पहले टेस्ट में 74 रन से हराया। हाईस्कोरिंग मैच में दूसरी बल्लेबाजी कर रही पाकिस्तानी टीम को जीत के लिए 343 रन की दरकार थी। मगर अनुभवी पेसर जेम्स एंडरसन और ओली रॉबिन्सन ने 4-4 विकेट लेकर तहलका मचा दिया। इस धमाकेदार मैच के बाद वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के पॉइंट्स टेबल में बड़ा बदलाव हुआ है। कई उलटफेर देखने को मिले हैं। पाकिस्तान की हार के बाद भारत के फाइनल में पहुंचने की उम्मीदों को भी ताकत मिली है। भारत विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के 2019-21 चक्र में उपविजेता रहा था। पिछले साल साउथेम्प्टन के रोज बाउल में न्यूजीलैंड से आठ विकेट से हार गया था।

पाकिस्तान की हार से भारत को कैसे फायदा?
भारत को अभी मौजूदा WTC चक्र में छह मैच और खेलने हैं। बांग्लादेश दौरे पर दो टेस्ट होंगे तो अगले साल की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया चार टेस्ट खेलने आएगी। फिलहाल भारत 52.08 के जीत प्रतिशत के साथ पाइंट्स टेबल में चौथे स्थान पर है, जबकि श्रीलंका 53.33 के जीत प्रतिशत के साथ तीसरे स्थान पर है। फाइनल में पहुंचने के लिए भारत को बांग्लादेश को क्लीन स्वीप करना होगा। साथ ही साथ कोशिश करनी होगी कि ऑस्ट्रेलिया को चार में से तीन मैच में पटखनी दी।

ऑस्ट्रेलिया-साउथ अफ्रीका तगड़े दावेदारयदि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप की मौजूदा स्थिति को देखा जाए तो ऐसा लगता है कि अगले समर सीजन ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका द ओवल में फाइनल में भिड़ सकते हैं। दिसंबर में ऑस्ट्रेलिया को तीन टेस्ट के लिए साउथ अफ्रीका की मेजबानी करनी है। ऑस्ट्रेलिया फिलहाल वेस्टइंडीज से घरेलू टेस्ट सीरीज कर रहा है। पहला टेस्ट 164 रन से जीतने के बाद दूसरे टेस्ट में क्लीन स्वीप करना चाहता है। दक्षिण अफ्रीका अगर ऑस्ट्रेलियाई को तीन में से दो टेस्ट हरा देता है तो फाइनल पहुंच जाएगा।

पाकिस्तान की उम्मीदों को लगा झटकाइस सीरीज से पहले पाकिस्तान 2023 में डब्ल्यूटीसी फाइनल में जगह बनाने के दावेदारों में से एक माना गया था, लेकिन इंग्लैंड से हारने का मतलब उम्मीदों पर पानी फिरना है। पाकिस्तान अब डब्ल्यूटीसी रैंकिंग में पांचवें स्थान पर नजर आ रहा है। इस हार के बाद पाकिस्तानी टीम को इंग्लैंड़ के खिलाफ दो टेस्ट और फिर स्वदेश में ही न्यूजीलैंड की मेजबानी करनी है। उस सीरीज में भी दो टेस्ट खेले जाने हैं।