मुझे चुप रहने के लिए 30 करोड़ का ऑफर…केरल गोल्ड स्मगलिंग केस में स्वप्ना सुरेश का सनसनीखेज दावा

बेंगलुरु : केरल के बहुचर्चित गोल्ड स्मगलिंग और लाइफ मिशन केस की मुख्य आरोपी स्वप्ना सुरेश ने गुरुवार को फेसबुक लाइव में सनसनीखेज दावा किया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि केरल की सत्ताधारी पार्टी सीपीएम ने एक मध्यस्थ के जरिए उन्हें 30 करोड़ रुपये देने की पेशकश की थी। फिलहाल, बेंगलुरु में रह रहीं स्वप्ना सुरेश ने आरोप लगाया कि उन्हें गोल्ड स्मगलिंग केस में सुलह करने और केरल छोड़ने के एवज में इस रकम की पेशकश की गई थी। इतना ही नहीं, उन्होंने आरोप लगाया कि सीपीएम के स्टेट सेक्रटरी एम. वी. गोविंदन ने तो उन्हें धमकी दी थी कि अगर वह इस पेशकश को ठुकराती हैं तो उन्हें खत्म कर दिया जाएगा।स्वप्ना ने फेसबुक लाइव में दावा किया कि खुद को कुन्नुर का विजय पिल्लनई बताने वाले एक शख्स ने तीन दिन पहले इंटरव्यू के बहाने से उनसे संपर्क किया। उसी ने उनके सामने 30 करोड़ रुपये देने की पेशकश की। कोच्चि में यूएई कॉन्सुलेट की पूर्व कर्मचारी स्वप्ना सुरेश 2020 के की मुख्य आरोपी हैं। उन्होंने इससे पहले केरल के सीएम पिनराई विजयन के खिलाफ इस केस में कई बार बयान दे चुकी हैं।स्वप्ना सुरेश ने कर्नाटक होम डिपार्टमेंट में शिकायत दर्ज कराई हैं। उसमें उन्होंने कहा है कि बेंगलुरु के विजय पिल्लई नाम के एक शख्स ने एक ओटीटी ऐप पर चर्चा के खातिर उनसे इंटरव्यू के नाम पर संपर्क किया। शिकायत में आरोप लगाया गया है कि पिल्लई ने मुख्यमंत्री विजयन और उनके परिवार के खिलाफ लगाए आरोपों को वापस लेने के एवज में उन्हें 30 करोड़ रुपये देने की पेशकश की। साथ में उन्हें चेतावनी दी कि अगर वह ऑफर ठुटकाती हैं तो उन्हें जेल में जाने के लिए तैयार होना पड़ेगा। इसके अलावा स्वप्ना सुरेश ने अपनी शिकायत में सीपीएम के स्टेट सेक्रटरी एमवी गोविंदन पर भी विजय पिल्लई के जरिए धमकाने का आरोप लगाया है।स्वप्ना सुरेश ने गुरुवार को फेसबुक लाइव पर दावा किया, ‘वे चाहते हैं कि मैं हरियाणा या जयपुर चली जाऊं। उन्होंने कहा कि मुझे हर तरह की मदद दी जाएगी, फ्लैट भी दिया जाएगा। बदले में वे चाहते हैं कि मैं मुख्यमंत्री, उनकी पत्नी, उनके बेटे, उनकी बेटी और उनके अडिशनल प्राइवेट सेक्रटरी सीएम रविंद्रन को लेकर मेरे पास जो भी डीटेल हैं, उसे उन्हें सौंप दूं। उन्होंने कहा कि अगर मैं ऑफर स्वीकार नहीं करती हूं तो वे मुझे खत्म कर देंगे। ये जान से मारने की धमकी का केस है।’ उन्होंने साथ में ये भी आरोप लगाया कि पिल्लई ने ये भी पेशकश की कि अगर वह भारत छोड़ना चाहती हैं तो एक महीने के भीतर डुप्लिकेट पासपोर्ट की व्यवस्था हो जाएगी। स्वप्ना सुरेश ने दावा किया कि पिल्लई ने अपने ऑफर पर विचार के लिए उन्हें 2 दिनों का वक्त दिया है।स्वप्ना सुरेश ने कहा, ‘पिनराई विजयन सर, ये लड़ाई सिर्फ मेरे लिए नहीं है। ये पूरे राज्य की आपके खिलाफ लड़ाई है…मेरा सिर्फ एक पिता है, मैं आखिर तक लड़ूंगी।’केरल गोल्ड स्मगलिंग केस में एनआईए, ईडी और कस्टम डिपार्टमेंट अलग-अलग जांच कर रही हैं। 5 जुलाई 2020 को तिरुवनंतपुरम एयरपोर्ट पर यूएई कॉन्सुलेट के डिप्लोमैटिक बैगेज में 15 करोड़ मूल्य के सोने की बरामदगी हुई थी। इस गोल्ड स्मगलिंग केस के सामने आने के बाद से ही इसे लेकर जबतब केरल की राजनीति गरमाती रहती है। विपक्षी कांग्रेस और बीजेपी का आरोप है कि सीएम विजयन ‘ताकत के दुरुपयोग’ के जरिए इस मामले में जांच से बचने की कोशिश कर रहे हैं।