स्वामी प्रसाद मौर्य ने सपा महासचिव पद से दिया इस्तीफा, अखिलेश यादव को लिखा भावुक पत्र

आगामी लोकसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी (सपा) नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को पार्टी के महासचिव पद से अपना इस्तीफा दे दिया। हालाँकि, 70 वर्षीय नेता पार्टी के सदस्य बने रहेंगे। उन्होंने अपने फैसले के बारे में सपा मुखिया अखिलेश यादव को पत्र लिखा और अपने इस्तीफे से अवगत कराया. इस बीच, मौर्य ने यह भी कहा कि वह पद के बिना भी पार्टी को मजबूत करने का प्रयास करते रहेंगे।  इसे भी पढ़ें: प्रदर्शन के बीच राहुल गांधी ने किसानों को दी कांग्रेस की पहली गारंटी, MSP को लेकर किया बड़ा ऐलानअपने त्याग पत्र में, मौर्य ने खुलासा किया कि उन्होंने अखिलेश यादव को ‘रथ यात्रा’ का विचार प्रस्तावित किया था, जिसका उद्देश्य जाति-आधारित जनगणना की वकालत करना, आरक्षण की रक्षा करना, बेरोजगारी के मुद्दों को संबोधित करना और संविधान की रक्षा करना था। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि उनका इरादा ऐसी पहलों के माध्यम से पार्टी के लिए समर्थन बढ़ाना था। उन्होंने दावा किया कि अखिलेश होली के त्योहार के बाद यात्रा शुरू करने पर सहमत हुए थे। हालांकि, इस यात्रा को कभी शुरू नहीं किया गया।    गौरतलब हो इधर कुछ दिनों से समाजवादी पार्टी के तमाम नेता स्वामी प्रसाद के खिलाफ खुलकर बयानबाजी कर रहे थे।  लेकिन अखिलेश यादव इस पर चुप थे। इसे भी पढ़ें: पीएम मोदी करेंगे श्री कल्कि धाम का शिलान्यास, सीएम योगी ने तैयारियों का किया जायजास्वामी ने रामचरितमानस पर विवादित बयान दिया था​​​​​​। इसके बाद उसका जमकर विरोध हुआ था। कहां जा रहा है कि अखिलेश यादव द्वारा बदायूं से धर्मेंद्र यादव को टिकट देने के बाद स्वामी नाराज  चल रहे थे। वह यहां से अपनी बेटी को लड़ना चाहते थे, जो इस समय भारतीय जनता पार्टी से सांसद हैं।  लेकिन स्वामी प्रसाद केला लगातर सनातन विरोधी ब्यान देने और इस पर उसकी बेटी संघप्रिय मौर्य की चुप्पी के बाद बीजेपी ने संघप्रिया का टिकट काटने का मन बना लिया है। इसीलिए स्वामी प्रसाद अपनी बेटी को सपा के टिकट पर बदायूं से लड़ना चाहते थे।  अखिलेश यादव को लिखे पत्र में स्वामी ने कहा है वह सभी पदों से इस्तीफा दे रहे हैं.  स्वामी का कहना है कि सपा में नेताओं के बीच भेदभाव किया जाता है।