स्पेशल स्टोरी: कहां तुम चले गए… क्या दुनिया का सबसे तन्हा परिंदा जिंदा है?

नई दिल्ली: हर साल सर्दियों के मौसम में, नवंबर के पहले हफ्ते के आसपास, साइबेरियन पक्षी ओमिद घड़ी की तरह ईरान के उत्तरी इलाके कैस्पियन के मैदानों में लौट आता था। कुछ ही समय में, यह ईरान का एक बहुप्रतीक्षित उत्सव बन गया, अखबारों में उसके आगमन की खबरें छपतीं। पूरे 15 साल तक, इस मेल ने सर्दियों से पहले पश्चिमी साइबेरिया से ईरान तक 5,000 किलोमीटर की खतरनाक उड़ान भरी, और वसंत में वापस साइबेरिया की यात्रा की। लेकिन इस साल, ऐसा नहीं हुआ। हफ्तों इंतजार के बाद, दिसंबर के अंत में ईरान के पर्यावरण विभाग के अधिकारियों ने दुखद खबर दी कि इंटरनेशनल क्रेन फाउंडेशन (ICF) के सदस्यों के मुताबिक, ओमिद यानी साइबेरियन क्रेन के बारे में कोई खबर नहीं है। तो फिर यह पक्षी कहां गया ? क्या दुनिया का सबसे तन्हा परिंद जिंदा है? सवाल कई उठे पर जवाब किसी के पास नहीं। फारसी में, ‘ओमिद’ का अर्थ है आशा – उर्दू में ‘उम्मीद’ के समान – यह नाम इस पक्षी के लिए बिल्कुल सटीक था, जो अपने थके हुए पंखों पर साइबेरियन क्रेन की पश्चिमी आबादी के पुनरुद्धार की एक किरण लिए उड़ता था। उसका यह बोझ उठाने वाला और कोई नहीं था। 2008 के अंत या 2009 की शुरुआत में, जब उसकी साथी अरज़ू की मृत्यु हो गई, तब से ओमिद जंगल में उस कड़ी का आखिरी बचा हुआ सदस्य था।क्या साइबेरियन क्रेन के अंत का संकेत है? ICF के एक अधिकारी के शब्दों में कभी-कभी दुनिया का सबसे अकेला पक्षी कहलाने वाला ओमिद फिर भी अपनी जीवित रहने की अद्भुत क्षमता दर्शाता था। अकेले ही, उसने खतरनाक प्रवास की राह पार की, पश्चिमी साइबेरिया के जंगलों से, कजाकिस्तान होते हुए रूस के वोल्गा डेल्टा तक और फिर दक्षिण में अजरबैजान से ईरान तक – हर साल, बिल्कुल “घड़ी की कल की तरह। उसकी अविश्वसनीय दृढ़ता और विलुप्त होने के खिलाफ उसके दिल को छू लेने वाले संघर्ष ने दुनिया भर के लोगों को भावुक किया, जिससे ओमिद ईरान में और अंतरराष्ट्रीय पक्षी देखने वालों के बीच एक प्रकार का सेलिब्रिटी बन गया। इसने भी उम्मीद जगाई कि गंभीर रूप से लुप्तप्राय: साइबेरियन क्रेन की पश्चिमी प्रवासी आबादी को किसी तरह जीवित रखा जा सकता है। ICF के सह-संस्थापक जॉर्ज आर्चिबाल्ड ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि 15 शरद ऋितुओं के लिए, एक अकेला नर साइबेरियन क्रेन, ओमिद, ईरान लौटा है। इस सर्दी में उसका न आना शायद उस क्षेत्र में प्रवास करने वाले साइबेरियन क्रेन के अंत का संकेत देता है। ओमिद और रोया की कहानी पक्षी विज्ञानियों को निस्संदेह इस असाधारण पक्षी के लिए शोकगीत लिखने से पहले कम से कम एक और साल इंतजार करना होगा। लंबी प्रवास उड़ानें कई जटिल संकेतों पर निर्भर करती हैं, जिनमें से सभी को स्पष्ट रूप से समझा नहीं जा सकता है। ओमिद का गायब होना इसलिए और भी दुखद है क्योंकि उसके साथी को खोजने के लिए एक योजना बनाई गई थी। आर्चिबाल्ड ने कहा, ‘यह एक दुखद क्षण है, खासकर जब से बेल्जियम में क्रेकिड संरक्षण और प्रजनन केंद्र की ओर से प्रदान की गई एक कैदकर पाली गई मादा, रोया , ईरान में ओमिद के आने का इंतजार कर रही थी। पिछले साल, आईसीएफ ने एक उपयुक्त साथी की पहचान की थी, सात साल की रोया, जिसे ओमिद के निकट ईरान के फेरेयडुंकेनार आर्द्रभूमि में छोड़ा गया था, जहां अकेला पक्षी अपना सर्दी का मौसम बिताता था। ईरानी वन्यजीव अधिकारियों ने बताया था कि इस जोड़े ने अच्छा बंधन बनाया था। ईरान बर्ड रिकॉर्ड कमेटी के सदस्य केरामत हफीजी बिरगानी ने अपने ब्लॉग में लिखा कि वे वेटलैंड के चारों ओर एक साथ उड़ते थे। वे नाचते और पुकारते थे। उम्मीद थी कि ओमिद और रोया साथ-साथ साइबेरिया के पश्चिमी इलाकों में अपने घोंसले बनाने की जगह तक जाकर एक परिवार शुरू करेंगे। ईरानी पक्षी देखने वालों के मुताबिक, 5 मार्च, 2023 को 34 दिन साथ बिताने के बाद, दोनों ने उड़ान भर ली। लेकिन सफर वैसा नहीं रहा जैसा सोचा गया था। सात दिनों के बाद, रोया को मजंदरान प्रांत के टोनेकाबोन शहर में अकेला देखा गया। माना जाता है कि रोया में अभी भी लंबी यात्रा के लिए शारीरिक शक्ति की कमी थी, जिसके लिए पक्षियों को वसा भंडारण और मांसपेशियों के विकास के मामले में पूरी तरह से तैयार रहने की आवश्यकता होती है। इस बीच, ओमिद का भाग्य अटकल का विषय बना हुआ है। पिछले हफ्ते, ईरान डेली ने देश के वन्यजीव संरक्षण और प्रबंधन कार्यालय के प्रमुख के हवाले से कहा कि इस साल कम कठोर सर्दी के कारण क्रेन अपने प्रवास मार्ग के बीच में ही रुक गया होगा। हालांकि, उन्होंने स्वीकार किया कि यह आकलन आशावादी था।कहां गया उसे ढूंढो…बर्डिंग वेबसाइट ने रिपोर्ट दी कि पिछले साल मार्च में, अजरबैजान में एक रास्ते के चौराहे पर (जहाँ साइबेरियन क्रेन को 2022 और 2020 में देखा गया था) ओमिद और रोया के ईरान से आने का इंतजार कर रहे पक्षी देखने वालों ने उसे नहीं देखा। ओमिद के गायब होने का मतलब है कि प्रवास की याद और साइबेरिया और ईरान के बीच पक्षियों की लंबी उड़ान के लिए मार्गदर्शन करने वाले मानसिक नक्शे भी खो गए हैं। क्योंकि, ओमिद न सिर्फ पश्चिमी साइबेरिया का आखिरी जीवित क्रेन था, बल्कि झुंड के सामूहिक ज्ञान का भी आखिरी भंडार था। यह एक बड़ी क्षति है और यह हमें इस प्रजाति के संरक्षण के महत्व को याद दिलाती है। वैज्ञानिक अब भी साइबेरियन क्रेन को पुनर्जीवित करने के तरीकों पर शोध कर रहे हैं, और उम्मीद है कि एक दिन इस असाधारण पक्षी के वंशज फिर से आसमान में उड़ते दिखाई देंगे।क्या साइबेरियन क्रेन कभी भारत लौट पाएंगे?भारत में सर्दियां बिताने वाले साइबेरियन क्रेन अब लुप्त हो चुके हैं, लेकिन क्या इन खूबसूरत पक्षियों को उनके प्राचीन घर वापस लाना संभव है? हां, यह मुश्किल ज़रूर होगा, लेकिन असंभव नहीं! भारत में चीते जैसे स्तनधारी के पुनर्वास की तुलना में, पक्षियों को उनके पूर्वजों के लंबे और कठिन प्रवास मार्ग पर ले जाने में अलग तरह की चुनौतियां हैं। लेकिन ऐसा पहले भी किया जा चुका है।उदाहरण के लिए, अमेरिका में 1941 में प्रवासी हूपिंग क्रेन की आबादी केवल 21 रह गई थी, लेकिन अब जंगल में इनकी संख्या 800 से भी ज़्यादा है। यह कैसे संभव हुआ? दरअसल, पायलटों ने हल्के हवाई जहाजों में क्रेन की पोशाक पहनकर, कैद में पली-बढ़े क्रेन के बच्चों को 15 साल से ज़्यादा समय तक प्रवास मार्ग सिखाया।इसी तरह की तकनीक का इस्तेमाल उत्तरी गंजा इबिस को मध्य यूरोप में फिर से लाने के लिए किया गया था, जहां 17वीं सदी में शिकार के कारण यह विलुप्त हो गया था।भारत या ईरान में साइबेरियन क्रेन को फिर से लाने की किसी भी योजना में कई देशों के सहयोग की आवश्यकता होगी। मुंबई नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी के पूर्व निदेशक, असद रहमानी कहते हैं कि उदाहरण के लिए, अफगानिस्तान की स्थिति भारतीय मार्ग पर एक बड़ी बाधा है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि हम इसे नहीं कर सकते। यद्यपि चुनौतियां निश्चित रूप से मौजूद हैं, सफलता की कहानियां हमें आशा देती हैं। वैज्ञानिक और संरक्षणवादी लगातार नए तरीके खोज रहे हैं लुप्तप्राय: प्रजातियों की मदद करने के लिए, और शायद एक दिन, हम भारत के आसमान में एक बार फिर से साइबेरियन क्रेन के सुंदर नृत्य को देख पाएंगे।