साहब मैंने क्या किया, जब राज ठाकरे ने रोड पर ‘भैया’ टैक्सी ड्राइवर को रोका, नीचे उतारा और…पढ़िए पूरा किस्सा

मुंबई: महाराष्ट्र के पिंपरी-चिंचवड में हो रहे जागतिक मराठी सम्मेलन में बोलते हुए महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (Maharashtra Nav nirman Sena ) के अध्यक्ष राज ठाकरे (Raj Thackeray) ने एक मजेदार किस्सा सुनाया। उन्होंने यह किस्सा व्यंगचित्र के विषय में एक सवाल का जवाब देते हुए सुनाया। राज ठाकरे ने कहा कि एक बार, एक कार्टून बनाने के लिए मुझे एक टैक्सी की जरूरत थी। मैंने अपने लोगों से कहा कि जाओ एक टैक्सी को बुलाकर लाओ। जब टैक्सी मेरे घर के बाहर आई तो वह ड्राइवर उत्तर भारतीय निकला। जब टैक्सी चालक मेरे घर के बाहर आया और उसने मुझे देखा, मैंने उससे कहा कि टैक्सी से नीचे उतरो। वह डर गया उसने कहा कि साहब मैंने क्या किया है? फिर मैंने उससे कहा कि तुमने कुछ नहीं किया है। सिर्फ टैक्सी से उतरकर बगल में खड़े हो जाओ। मुझे टैक्सी की फोटो निकालनी है। जिसके बाद मैंने टैक्सी का फोटो निकाला और उसे बक्शीश देकर विदा किया।

राज ठाकरे ने कहा कि व्यंगचित्र बनाने के लिए बहुत प्रैक्टिस करनी पड़ती है। अलग अलग तरीके अपनाने पड़ते हैं, इसी में से एक किस्सा उस उत्तर भारतीय टैक्सी ड्राइवर का भी था। राज ने कहा कि कॉलेज में पढ़ाई के दौरान मैं रोज आठ से दस घंटे कार्टून बनाने की प्रैक्टिस करता था। एक बार बाला साहेब ने मुझे कूड़ेदान और उसके बाहर पड़े कूड़े का व्यंग चित्र बनाने के लिए भेजा था। मैं वहां भी गया और वहां खड़े होकर कार्टून बनाया। अगर आप इस तरह से प्रैक्टिस नहीं करेंगे तो आपके जहन में जो चीज बनानी है उसकी तस्वीर नहीं बनेगी। ऐसे में व्यंग चित्र या कार्टून बना पाना किसी भी कलाकार के लिए काफी मुश्किल हो जाता है।

पीएम मोदी पर हमला
राज ठाकरे ने प्रधानमंत्री पर भी हमला साधा है। उन्होंने कहा कि पीएम को पूरे देश की तरफ ध्यान देना चाहिए। देश के प्रत्येक राज्य उनके लिए समान होने चाहिए। आप खुद गुजराती हैं, इसलिए गुजरात को वरीयता देना एक प्रधानमंत्री को शोभा नहीं देता। जागतिक मराठी सम्मेलन में बोलते हुए उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है। राज ठाकरे ने कहा कि साल 2014 के मेरे भाषणों को देखिए, उस वक्त मैंने कहा था कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने पर उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड की तरफ विषय विशेष ध्यान दें। को सिर्फ एक राज्य की तरफ विशेष ध्यान नहीं देना चाहिए।

साल 2014 में भी मेरी यही भूमिका थी, आज भी वही भूमिका है। राज ठाकरे ने कहा कि साल 2014 के बाद जिन बातों को लेकर मैंने आवाज उठाई उसके बाद क्या हुआ आप सब ने देखा है। कुछ बातें मुझे पसंद नहीं आई जिसकी वजह से मैंने साल 2019 में ‘लाव रे तो वीडियो’ (वो वीडियो लगाओ) कैंपेन चलाया।