महाराष्ट्र में भी इंडिया गठबंधन को झटका, प्रकाश अंबेडकर बोले- सब खत्म हो गया है

मुंबई: महा विकास आघाडी गठबंधन में एंट्री मारते ही प्रकाश आंबेडकर ने I.N.D.I.A. गठबंधन पर सवाल उठा दिया। उन्होंने दो टूक कहा कि I.N.D.I.A. में कुछ नहीं बचा है, लेकिन हम लोग महा विकास आघाडी को बचाने की पूरी कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा कि उनकी बातचीत ठाकरे और शरद पवार से हो रही है, न कि कांग्रेस के साथ। आंबेडकर के बयान पर सफाई देने के लिए तत्काल उद्धव सेना के प्रवक्ता संजय राउत सामने आए। उन्होंने आंबेडकर के बयान का बचाव करते हुए कहा कि राष्ट्रीय स्तर का बना गठबंधन मजबूत है। बैठक खत्म होने के बाद आंबेडकर ने कहा कि बीजेपी से मुकाबले के लिए बनाए गए राष्ट्रीय स्तर के गठबंधन में अब कुछ नहीं बचा है और यह खत्म हो गया है। समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव ही बचे हैं। मैं नहीं चाहता कि ऐसा कुछ हो, लेकिन हकीकत यही है। उन्होंने कहा कि हम लोग महा विकास आघाडी को I.N.D.I.A. गठबंधन नहीं बनने देंगे। हम सभी को फूंक-फूंक कर कदम उठाने होंगे।लोकसभा चुनाव में सीट बंटवारे को लेकर शुक्रवार को दक्षिण मुंबई के फाइव स्टार होटल में महा विकास आघाडी ने बैठक बुलाई। बैठक में आंबेडकर का स्वागत करने के लिए उद्धव ठाकरे गुट के प्रवक्ता संजय राउत, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले, अशोक चव्हाण, बालासाहेब थोराट, मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष वर्षा गायकवाड, एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटील, जितेंद्र आव्हाड आए। बैठक में आंबेडकर ने सभी को खरी-खरी सुना दी।6 सीटों पर लड़ेंगे आंबेडकरप्रकाश आंबेडकर के रवैये से एक समय तो सभी नेता विचलित हो गए। आंबेडकर ने पहले न्यूनतम साझा कार्यक्रम तय करने की बात कही। उसके बाद सीट बंटवारे पर चर्चा करने के लिए कहा। बाद में स्थित संभाली गई। बताया जाता है कि आंबेडकर ने छह लोकसभा सीटें अकोला, दक्षिण-मध्य मुंबई, सोलापुर, परभणी, अमरावती और बुलढाणा मांगीं। इससे पहले उनकी पार्टी ने 12 सीटें मांगी थीं।न्यूनतम साझा कार्यक्रम के लिए समितिआंबेडकर के बयान के बाद महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि आंबेडकर ने कुछ मुद्दे उठाए हैं, उनमें और हमारे बीच कई मुद्दे समान हैं, इसलिए पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण की अध्यक्षता में एक समिति नियुक्त करने का निर्णय लिया गया है। यह समिति न्यूनतम साझा कार्यक्रम तय करेगी। कमिटी आठ दिन में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी और उसके बाद अगले सप्ताह एमवीए की बैठक में सीट आवंटन पर फिर चर्चा होगी। नाना ने दावा किया कि सीटों के बंटवारे को लेकर महा विकास आघाडी में कोई मतभेद नहीं है। हमारा गठबंधन सभी 48 सीटों पर चुनाव लड़ेगा।I.N.D.I.A. टूटा नहीं है: राउतआंबेडकर के बयान के बाद संजय राउत ने दावा किया कि I.N.D.I.A. टूटा नहीं है। सीट बंटवारे को लेकर घटक दलों के बीच कुछ मुद्दे जरूर हैं। कुछ रणनीतिक फैसले लिए जा रहे हैं। पंजाब और बंगाल में ऐसे फैसले लिए गए हैं। दिल्ली में कांग्रेस और आप के बीच सीटों का बंटवारा होगा और पंजाब में दोनों अलग-अलग लड़ेंगे। बीजेपी को हराने के लिए ममता बनर्जी भी काम करेंगी।