BJP को झटका! कालिख कांड में 11 साल बाद MLA समेत 10 नेताओं को 1-1 साल की जेल

मध्य प्रदेश के इंदौर जिले की स्पेशल कोर्ट ने आज बीजेपी विधायक समेत 10 नेताओं को 1 साल कारावास और 1000 के अर्थदंड की सजा सुनाई है. दरअसल,ये मामला इंदौर की स्पेशल कोर्ट का है. स्पेशल कोर्ट ने आज एक मामले में सुनवाई करते हुए खंडवा के पंधाना से बीजेपी विधायक राम डांगोरे सहित 10 बीजेपी नेताओं को एक मामले में सजा सुनाई है. वहीं, पूरा मामला 2011 का है. उसी मामले में स्पेशल कोर्ट में सुनवाई चल रही थी. बताया जा रहा है कि बीजेपी विधायक ने बीजेपी नेताओं के साथ मिलकर प्रोफेसर अशोक चौधरी के मुंह पर कालिख पोत कर प्रदर्शन किया था.
दरअसल, इस पूरे मामले में प्रोफेसर के द्वारा बीजेपी विधायक समेत अन्य नेताओं के खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया गया था. उस पूरे मामले में इंदौर की स्पेशल कोर्ट में लगातार सुनवाई चल रही थी. वहीं, सुनवाई पूरी होने के बाद आज इंदौर की स्पेशल कोर्ट ने बीजेपी विधायक राम डांगोरे समेत दस अन्य बीजेपी नेताओं को 1 साल कारावास की सजा के साथ ही 1000 रुपए के अर्थदंड से भी दंडित किया है. साथ ही स्पेशल कोर्ट ने इस पूरे मामले में एक टिप्पणी भी की है.
क्या है मामला?
वहीं, कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए नेताओं को नसीहत दी है कि छात्र राजनीति में संयमित रहकर विरोध प्रदर्शन करना चाहिए. कई बार छात्र राजनीति में युवा नेता अक्सर विरोध प्रदर्शन में उग्र हो जाते हैं और कानून को तोड़ देते हैं. इस पूरे मामले में भी यही सब कुछ घटना सामने आई थी. इसके बाद इस पूरे मामले में प्रोफेसर अशोक चौधरी की शिकायत पर खंडवा के पंधना विधायक राम डांगोरे समेत बीजेपी से जुड़े हुए कई नेताओं के खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस दर्ज हुआ था.
उसी पूरे मामले में इंदौर की स्पेशल कोर्ट में लगातार सुनवाई चल रही थी.कोर्ट ने इस पूरे मामले में विभिन्न गवाह और सबूतों के आधार पर बीजेपी विधायक सहित अन्य लोगों को एक-एक साल की सजा के साथ ही एक- एक हजार के अर्थदंड की सजा से दंडित किया है.
कोर्ट ने आरोपियों को दंडित करने के साथ जमानत पर किया रिहा
इंदौर की स्पेशल कोर्ट ने इस पूरे मामले में विभिन्न सबूतों औऱ गवाहों के बयानों के आधार पर विधायक समेत अन्य लोगों को सजा से दंडित करने के साथ ही जमानत पर रिहा भी कर दिया है. बता दें कि, पूरा ही मामला काफी हाईप्रोफाइल था.
इस पूरे मामले में विभिन्न तरह की सुनवाई करने के बाद कोर्ट ने इस पूरे मामले में विधायक समेत अन्य लोगों को अपराध को देखते हुए दंडित किया है. हालांकि, इससे पहले भी इंदौर की स्पेशल कोर्ट में इस तरह के मामले सामने आ चुके हैं.