सेक्स, ड्रग्स और सांप… अब एल्विश का आया नाम, जानें इन रेव पार्टियों की अंधेरी रातों का सच

जैसे-जैसे रात गहरी होती जाती है, भीड़ जुटती जाती है। रात के अंधेरे में सजती है रेव पार्टी की महफिल। अपनी एक रात को रंगीन करने के लिए शहर भर के अमीरजादे जुटते हैं और इनकी अय्याशियों के लिए लाया जाता है वो सामान जिसकी आम आदमी कल्पना भी नहीं कर सकता। सांप, अजगर, कोबरा, बिच्छू, कोकेन, हेरोइन और विदेशी लड़कियां। नशे का पूरा कॉकटेल किया जाता है तैयार। नोएडा की रेव पार्टी, जहर का खेल और एल्विश यादव का कनेक्शन नोएडा में भी खेला जा रहा था ऐसा ही जहर, नशे और सेक्स का सबसे गंदा खेल। एक रात की अय्याशी के लिए किया गया था सारा गैरकानूनी इंतजाम और अब इस आयोजन से नाम जुड़ रहे हैं बिग बॉस के विनर एल्विश यादव के। जी हां मशहूर यूट्यूबर एल्विश यादव और उसके दोस्तों पर नोएडा में रेव पार्टी के आयोजन के आरोप लगे हैं। आखिर क्या होती हैं ये रेव पार्टीज। क्यों नोएडा में हुई इस रेव पार्टी में सांप बिच्छू लाए गए थे। लड़के-लड़किया इस रेव पार्टी में क्या करने वाले थे। ये कौन सा नशा होता है जिसके के लिए अमीर घरों के लड़के-लड़कियां पानी की तरह पैसा बहा देते हैं। एक रात के लिए लाखों-करोड़ों क्यों खर्च कर दिए जाते हैं? एक रात के लिए युवा करते हैं लाखों खर्च कभी मुंबई के आसपास इस तरह की रेव पार्टीज के बारे में खबरें मिलती थी। नब्बे के दशक से इस तरह की पार्टीज का चलन है जो एकदम गैरकानूनी है। रेव पार्टीज मतलब ऐसी पार्टी जहां हर गैरकानूनी चीजों का इस्तेमाल होता है। इन पार्टीज में जाने के लिए लाखों रुपये खर्च करने पड़ते हैं और फिर इन पार्टीज वो नशा युवाओं को परोसा जाता है जिसे आमतौर में ले पाना नामुमकिन है। ऐसे आयोजनों को पूरी तरह से सीक्रेट रखा जाता है और बेहद क्लोज ग्रुप में इसपर डील होती है। फार्म हाउस सजती है नशे और सेक्स की महफिल देश के बड़े-बड़े फार्म हाउस में छुपकर इन पार्टीज का आयोजन किया जाता है। मुंबई, दिल्ली, गुड़गांव, जयपुर और अब नोएडा भी इन पार्टीज का हब बन गया है। इन पार्टीज में सबसे ज्यादा कोकेन का इस्तेमाल किया जाता है। कोकेन का नशा करीब 7-8 घंटे तक मदहोश कर देता है। लड़के-लड़कियां नशा करते हैं और फिर वहीं सेक्स भी। रात भर इस पार्टी में क्या चल रहा होता है वो किसी को होश नहीं होता। सब बस नशे में डूबकर अपनी रात को रंगीन करते हैं।तमाम तरह के बैन नशे की चीजें होती हैं इस्तेमाल कोकेन के अलावा इन पार्टीज में दूसरी सबसे बड़ा नशा होता है एमडीएमए का लोग इसे मेफेड्रोन या फिर पार्टी की भाषा म्याऊ म्याऊ के नाम से बुलाते हैं। यंगस्टर इस नशे के लिए क्रेजी हैं। ये नशा दिमाग को पूरी तरह से सुन्न कर देता है। न कोई होश रहता है और न कोई खबर बस अपने ही अंदाज में पार्टी कर रहे ये लोग झूमते रहते हैं। ये सारे नशे पूरी तरह से बैन हैं। सांप-बिच्छू और छिपकली का नशा तैयार किया जाता हैइन सबसे एक लेवल और हाई है सीधा सांप, बिच्छू और छिपकली का नशा। रेव पार्टी के लिए कोबरा और दूसरी प्रजाति के सांप भी पकड़े जाते हैं और इनका जहर इकट्ठा किया जाता है। पार्टी में ही इनके जहर को लड़के-लड़कियां अपने शरीर में इस्तेमाल करते हैं। अलग-अलग अंदाज में इसे पार्टी में परोसा जाता है। इसके अलावा इसी तरह बिच्छू और छिपकली को भी नशे के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इन्हें मारकर ड्रिंक्स में मिलाय जाता है। रेव पार्टीज का मकसद होता है नशे में चूर-चूर हो जाना। बस यंगस्टर इस सबके लिए एक रात के लाखों रुपये देने को तैयार हो जाते हैं। नोएडा की रेव पार्टी के लिए भी लाए गए 9 जहरीले सांप नोएडा की रेव पार्टी में भी नजारा तकरीबन ऐसा ही होना था। एक स्टिंग ऑपरेशन के बाद इस पार्टी का खुलासा हुआ। बीजेपी नेता मेनका गांधी की एनजीओ जो एनिमल्स के लिए काम करती है उससे जुड़े लोगों ने ये स्टिंग ऑपरेशन किया। इस पार्टी की खबर इस एनजीओ को लगी थी और ये भी पता चला था कि इसका आयोजन एल्विश ही करवा रहे हैं। इसके बाद एनजीओ के लोग एल्विश यादव से मिले और पार्टी में जाने की बात की। एल्विश ने इन्हें अपने एक दोस्त का नंबर दिया। इसके बाद ये जानकारी पुलिस को दी गई और फिर खुलासा हुआ इस पार्टी का। पुलिस ने एल्विश यादव समेत 5 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है जबकि 49 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इन लोगों के पास से 9 जहरीले सांप और 20 मिलीमीटर जहर बरामद हुआ है। इनमें पांच कोबरा, एक अजगर, दो दोमुंहे सांप और एक रेट स्‍नेक है। एल्विश पर ये भी आरोप लगे है कि वो अपने फार्म हाउस पर जहरीले सांपों के साथ फोटो शूट करवाते थे।