Agra में सेना की दवाइयों को लेबल बदलकर बाजार में बेचने का मामला, सात गिरफ्तार

आगरा पुलिस और मादक पदार्थ रोधी कार्य बल ने सैन्य कर्मियों को भेजे जाने वाली दवाइयों का लेबल बदलकर बाजार में बेचे जाने का खुलासा करते हुए सात लोगों को गिरफ्तार किया है।
पुलिस ने बताया कि आरोपियों के पास से लगभग 40 लाख रुपये कीमत की दवाएं बरामद की गई हैं जिनमें जीवन रक्षक औषधियां भी शामिल हैं।
शहर पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) सूरज राय ने पत्रकारों को बताया कि उत्तर प्रदेश एसटीएफ से मिली जानकारी के बाद हरीपर्वत पुलिस और मादक पदार्थ रोधी कार्य बल ने सोमवार और मंगलवार को फव्वारा स्थित दवा मार्केट पर छापामार कर कई दुकानों से सेना को भेजे जाने वाली दवाएं बरामद की गयीं।
उन्होंने बताया कि टीम ने पूछताछ के लिए कुछ लोगों को हिरासत में लिया था।
राय ने बताया कि आरोपी दवाइयों को पैकेजिंग बदल बाजार में कम दामों पर बेचते थे।
डीसीपी के मुताबिक, पकड़े गये आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि वे सेना और रक्षा सेवाओं को भेजे जाने वाली खेप में सेंधमारी करते थे और बड़ी मात्रा में दवायें चोरी करते थे।
राय ने बताया कि पुलिस ने गिरोह के सरगना फरहान बेग समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया है।
उन्होंने कहा कि आरोपियों की महेंद्र कुमार उदवानी, नीरज राजौरा, सैय्यद, अजय गोयल, संस्कार गुप्ता, प्रवेश राजपूत, राजेश भाटिया उर्फ राजा के तौर पर हुई है।