Sehore: निजी अस्पताल में जच्चा-बच्चा की मौत के बाद हंगामा, परिजनों का आरोप गलत इंजेक्शन लगने से हुई मौत

पहलवान शर्मा परिवार की भतीजी और आंगनबाड़ी में कार्यरत थीं अश्विनी। नौ माह का था गर्भ। कोतवाली पुलिस मामले की जांच में जुटी।