Sanjay Tiger Reserve: शिकारियों ने ली जान! करंट लगा बाघिन टी-32 को मारा, शव को रेत में दबाया

सीधी: मध्य प्रदेश के सीधी के संजय टाइगर रिजर्व में रविवार को बाघिन टी- 32 का शव मिला. बाघिन की मौत करंट के चपेट में आने से हुई है, लेकिन ये नेचुरल मौत नहीं है बल्कि शिकारियों ने बाघिन को मारा है, क्योंकि बाघिन का शव टमसार वन क्षेत्र अंतर्गत राजस्व गांव केरहिया में गोपद नदी के किनारे रेत में दबा हुआ मिला है. वहीं पास में एक दूसरे गड्ढे में कालर आइडी दबी मिली है. बता दें बाघिन की उम्र सिर्फ चार साल थी. दरअसल लंबे समय से बाघिन टी- 32 गायब चल रही थी. जिस वजह से कर्मचारी उसकी तलाश में जुटे हुए थे.

जिसके बाद कल बाघिन की तलाश में विभाग द्वारा डॉग स्क्वाड का सहारा लिया गया तो बाघिन का रेत में दफनाया गया शव मिल गया. शव के मिलने के बाद हडकंप मच गया. कर्मचारियों ने पहले बाघिन का पोस्टमार्टम किया और फिर दाह संस्कार कर दिया. वहीं पुलिस ने मामले में शामिल पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस सभी आरोपियों से पूछताछ कर रही है.
कॉलर आईडी से तलाशा शव
दरअसल यह पूरा मामला संजय टाइगर रिजर्व के टमसार बफर जोन के ग्राम केरहिया का है. यह पूरी घटना 9 मार्च की बताई जा रही है. बाघिन टी-32 को लास्ट बार 9 मार्च को देखा गया था. जिसके बाद से वो लापता हो गई. काफी समय तक उसका कुछ पता नहीं चला. बाघिन टी-32 के कॉलर आईडी भी लगाई गई थी ताकि उसकी लोकेशन ट्रैस की जा सके,लेकिन उसकी कॉलर आईडी से भी लोकेशन नहीं मिल रही थी. जिसके बाद डॉग स्क्वाड टीम की मदद ली गई तो उसकी कॉलर आईडी रेत में दफ़न मिली.

ये भी पढ़ें- सब इंस्पेक्टर का खूनी खेल! मीट काटने वाले चाकू से पत्नी-बेटे को काटा, फिर खुद ट्रेन के आगे कूदा

साथ ही कुछ दूरी पर बाघिन का शव भी रेत में दफन मिल गया. संजय टाइगर रिजर्व की टीम द्वारा बाघिन की हत्या के मामले में पांच संदिग्ध आरोपियों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है. पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उन्होंने जंगली जानवर के शिकार के लिए बिजली के तार लगाए थे. उनका मकसद बाघ बाघिन का शिकार करना नहीं था, लेकिन उस करंट की चपेट में आकर बाघिन की मौत हो गई. इस बात से वो सभी बहुत डर गए थे. जिस कारण उन्होंने गोपद नदी के किनारे रेत में गड्ढा खोदकर शव को छिपा दिया.
करंट से पहले भी हुई है बाघिन की मौत
21 नवंबर 2021 को गोपद नदी में ही 12 फीट नीचे बोरे में बंद बाघिन टी 30 का पैर और अन्य अंग मिले थे. इस बाघिन की भी मौत करंट से हुई थी. वहीं जानकारी के मुताबिक बाघ टी-27 भी एक पखवाड़े से लापता है, जिसकी सर्चिंग में विभागीय अमली जी जान से जुटा हुआ है.

ये भी पढ़ें- पेड़ काटने से रोका तो वन विभाग की टीम पर तीर-गोफन से किया हमला, 14 घायल