रूस के सबसे बड़े बॉम्‍बर जेट ने खतरनाक डैगर मिसाइल के साथ भरी उड़ान, पुतिन का अमेरिका को संदेश

मॉस्‍को: रूस के राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन ने दुनिया के सबसे बड़े सुपरसोनिक बॉम्‍बर को खतरनाक मिसाइल के साथ लोड करके अमेरिका और पूरे यूरोप उनके देश के पास मौजूद परमाणु हथियारों के जखीरे की एक चेतावनी दी है। रूस के खतरनाक टुपलोव टीयू-160 बॉम्‍बर जिसे व्‍हाइट स्‍वान के तौर पर भी जानते है, उसने डैगर मिसाइल के साथ पहली उड़ान भरी। जो फुटेज सामने आई है उसमें नजर आ रहा है कि एक मॉर्डन एयरक्राफ्ट ने एक अहम टेस्‍ट के तहत टेकऑफ किया। इस फुटेज में साफ नजर आ रहा है कि इस एयरक्राफ्ट ने सफलतापूर्वक लैंडिंग की। इससे यह साबित हो गया कि यह एयरक्राफ्ट युद्ध के लिए रेडी है। इस बॉम्‍बर को अपग्रेड किया गया है और अब यह रूस की सबसे खतरनाक किंझल मिसाइल को कैरी कर सकता है।

यूक्रेन के बाहर होगा हमला

डैगर मिसाइल को ‘किलजॉय’ के नाम से भी जानते हैं। यह परमाणु क्षमता वाली हाइपरसोनिक मिसाइल है जो कुछ ही सेकेंड्स में तबाही ला सकती है। इन मिसाइलों की रेंज 1900 किलोमीटर से भी ज्‍यादा है। साफ है कि अगर पुतिन चाहें तो इस मिसाइल की मदद से यूक्रेन के बाहर भी हमला कर सकते हैं। वहीं किंझिल मिसाइल को 500 किलोग्राम तक का बारूद या फिर परमाणु हथियार तक ले जा सकती है।

इस मिसाइल की स्‍पीड सबसे ज्‍यादा चौंकाने वाली है। ये मिसाइल काइनेटिक एनर्जी से चलती है। इसकी रेंज 2000 किलोमीटर बताई जाती है। मिसाइल मैक 12 यानी 14817.6 किलोमीटर प्रति घंटे की स्‍पीड से लॉन्‍च होती है। मिसाइल 500 किलोटन परमाणु हथियार तक ले जाने में सक्षम है। इतनी मात्रा जापान के हीरोशिमा में गिराए गए परमाणु बम से 33 गुना ज्‍यादा है। मिसाइल इतनी ताकतवर है कि किसी वॉरशिप में भी छेद कर सकती है। हालांकि मार्च से रूस, यूक्रेन में डैगर मिसाइलों का प्रयोग कर रहा है।

रूस का सबसे बड़ा जेट

रूस के रक्षा मंत्रालय की तरफ से टुपलोव टीयू-160 एयरक्राफ्ट के बारे में भी अहम जानकारी दी गई है। रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि टीयू-160एम स्‍ट्रैटेजिक बॉम्‍बर जोकि मिसाइल को कैरी कर सकता है उसने अपनी पहली फ्लाइट में उम्‍मीद से बेहतर प्रदर्शन किया है। ये बॉम्बर जेट 40,026 फीट की ऊंचाई पर अधिकतम 2220 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्‍पीड से उड़ान भर सकता है।

एक बार में ये जेट 12,300 किलोमीटर तक की उड़ान भर सकता है। इस जेट को 960 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से उड़ाया जा सकता है। टुपलावे दुनिया का सबसे बड़ सुपरसोनिक एयरक्राफ्ट है। मिलिट्री एविएशन की हिस्‍ट्री में इसे सबसे भारी एयरक्राफ्ट कहा जाता है। सोवियत संघ के जमाने से ही यह बॉम्‍बर रूस की सबसे बड़ी ताकत बना हुआ है।

खतरनाक मिसाइल को परखा

पिछले दिनों आई एक रिपोर्ट के मुताबिक पुतिन ने अवनगार्ड मिसाइल को परखा है। कहा जा रहा है कि पुतिन इसे लॉन्‍च कर सकते हैं। अगर यह मिसाइल लॉन्‍च हो गई तो फिर पश्चिमी देश उस तबाही की तरफ होंगे जिसकी कभी कल्‍पना तक नहीं की गई होगी। अवनगार्ड मिसाइल आवाज की रफ्तार से 27 गुना ज्‍यादा स्‍पीड पर दुश्‍मन को निशाना बनाती है। बताया जा रहा है कि इस मिसाइल को ऑरेनबर्ग क्षेत्र में एक अंडरग्राउंड लॉन्‍च सिलो पर इंस्‍टॉल किया जा रहा है। मिसाइल एक हाइपरसोन‍िक ग्‍लाइड व्‍हीकल के साथ है।