इंदौर में आदिवासी युवती की मौत पर बवाल, फायरिंग-पथराव…कमलनाथ बोले- जंगलराज कायम

इंदौर: मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में 23 वर्षीय महिला की मौत के बाद आदिवासी समुदाय के लोगों में आक्रोश व्याप्त है. आदिवासी समाज के लोगों ने बुधवार को जमकर प्रदर्शन किया जिस पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे और हवा में गोलियां चलाईं. इस दौरान एक युवक की मौत हो गई. मृतक का नाम भेरूलाल है. उसकी उम्र 18 साल बताई जा रही है. वहीं, एक व्यक्ति घायल भी हो गया है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने घटना के जांच के आदेश दिए हैं.

एक अधिकारी ने बताया कि गुस्साए लोगों ने पुलिस वाहनों में जमकर तोड़फोड़ की और पुलिसकर्मियों पर हमला किया. यह घटना महू शहर से करीब तीन किलोमीटर दूर बडगोन्दा पुलिस थाने में हुई. पुलिस थाना प्रभारी धर्मेंद्र ठाकुर के मुचाबिक, मृतक महिला खरगोन की रहने वाली थी. वह धमनोद में रहकर पढ़ाई कर रही थी. अधिकारी के मुताबिक, गवली पलसिया गांव का रहने वाला यदुनंदन पाटीदार की पिछले साल महिला से मुलाकात हुई थी. फिर उनकी बातचीत होने लगी. वह (बडगोन्दा) अपने घर लेकर आया था. इसी बीच, महिला की बुधवार शाम को मौत हो गई.

इंदौर जिले के महू में आदिवासी युवती से सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या एवं पुलिस फ़ायरिंग में आदिवासी युवक की हत्या ने मध्यप्रदेश में व्याप्त जंगलराज को साबित किया है।
मैं इस हृदयविदारक घटना से आहत हूँ, व्यथित हूँ और दुख की इस घड़ी में पीड़ित आदिवासी परिवारों के साथ खड़ा हूँ।

— Kamal Nath (@OfficeOfKNath) March 16, 2023

कमलनाथ ने कहा- साबित हो गया प्रदेश में जंगलराज है
वहीं, इस घटना पर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट किया ‘इंदौर जिले के महू में आदिवासी युवती से सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या एवं पुलिस फ़ायरिंग में आदिवासी युवक की हत्या ने मध्यप्रदेश में व्याप्त जंगलराज को साबित किया है. मैं इस हृदयविदारक घटना से आहत हूँ, व्यथित हूँ और दुख की इस घड़ी में पीड़ित आदिवासी परिवारों के साथ खड़ा हूं.’

ये भी पढ़ें- देश की जेलों का हाल बेहाल, क्षमता से 1.28 लाख अधिक कैदी, नंबर वन पर UP- केंद्र

इसी के ही साथ पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देश पर कांग्रेस के आदिवासी विधायकों का दल घटनास्थल पर जांच के लिए रवाना हो गया है. जांच दल में कांतिलाल भूरिया, बाला बच्चन, झूमा सोलंकी और पाचीलाल मेड़ा शामिल हैं. इंदौर के प्रभारी महेंद्र जोशी भी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं. यह दल घटना की सच्चाई पता करेगा और पीड़ित लोगों से बातचीत करेगा. दल अपनी रिपोर्ट कमलनाथ को सौंपेगा.

ये भी पढ़ें- खनन अधिकारी के घर लोकायुक्त के अफसरों की छापेमारी, मिली आय से तीन गुना ज्यादा संपत्ति