Ram Temple Function: टाटा इंस्टिट्यूट ने छात्रों को विरोध प्रदर्शन नहीं करने की चेतावनी दी

टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) ने अपने छात्रों से 22 जनवरी को अयोध्या स्थित राम मंदिर में होने वाले प्राण प्रतिष्ठा समारोह के खिलाफ यहां संस्थान के परिसर में किसी भी प्रकार के प्रदर्शन में शामिल नहीं होने को कहा है और चेतावनी दी है कि इसकी अवहेलना करने पर उन्हें कानून प्रवर्तन एजेंसियों की कार्रवाई का सामना करना होगा।
टीआईएसएस द्वारा 18 जनवरी को जारी एक नोटिस में कहा गया कि प्रशासनिक अधिकारियों को पता चला है कि कुछ छात्र प्राण प्रतिष्ठा समारोह के खिलाफ संस्थान के पुराने या नए परिसर में विरोध प्रदर्शन आयोजित करने की योजना बना रहे हैं।
नोटिस में कहा गया, ‘‘हम छात्रों को सख्त चेतावनी देते हैं कि वे ऐसी किसी भी गतिविधि या प्रदर्शन में भाग न लें। कानून-प्रवर्तन एजेंसी ऐसी गतिविधियों में शामिल पाए जाने वाले छात्रों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई करेंगी।’’
टीआईएसएस के छात्र संघ ने शनिवार को कहा कि उसने कोई विरोध प्रदर्शन आयोजित करने की योजना नहीं बनाई है।
दूसरी ओर, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मुंबई प्राण प्रतिष्ठा समारोह के अवसर पर एक गौशाला का उद्घाटन और महाकाव्य रामायण पर आधारित कविता पाठ जैसे कार्यक्रम आयोजित करेगा।