अयोध्या में साथियों संग पकड़ा गया राजस्थान का गैंगस्टर, बड़ी वारदात की फिराक में था, खालिस्तानी संगठन से लिंक?

सीकर/झुंझुनूं: राजस्थान का एक गैंगस्टर अपने दो साथियों के साथ यूपी पुलिस के हत्थे चढ़ गया है। यूपी एटीएस ने सीकर निवासी गैंगस्टर शंकरलाल दुसाद, प्रदीप पूनिया और झुंझुनूं निवासी अजीत कुमार सिंह को गिरफ्तार किया गया है। शंकरलाल दुसाद और अजीत सिंह के खिलाफ कई मुकदमे दर्ज हैं, जबकि प्रदीप पूनिया के बारे में जानकारी प्राप्त की जा रही है। तीनों की गिरफ्तारी के बाद स्थानीय पुलिस इन बदमाशों के घरों तक पहुंची। इनके बारे में ताजा जानकारी जुटाई जा रही है। खालिस्तानी संगठन से जुड़े होने का संदेहयूपी एटीएस को मुखबिर के जरिए सूचना मिली थी कि हरियाणा नंबर की एक लग्जरी गाड़ी में सवार तीन बदमाश अयोध्या की ओर आ रहे हैं। इस सूचना पर अयोध्या पुलिस और यूपी एटीएस अलर्ट हो गई। एटीएस की टीम ने तीन बदमाशों को हरियाणा नंबर की गाड़ी में दबोच लिया। गाड़ी पर धार्मिक झंडा लगा रखा था। गिरफ्तार किए गए झुंझुनूं निवासी अजीत सिंह के खालिस्तानी संगठन से जुड़े होने का संदेह है। पुलिस इन तीनों से अलग अलग पूछताछ कर रही है। आरोपी शंकरलाल दुसाद सीकर जिले के जाजोद गांव का रहने वाला है, जबकि प्रदीप पूनिया ढालियावास का रहने वाला है। आरोपी अजीत सिंह झुंझुनूं जिले के अजाड़ी खुर्द गांव का रहने वाला है।बड़ी वारदात की फिराक में थे आरोपीयूपी एटीएस के अनुसार, ये तीनों बदमाश किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। कई अन्य बदमाशों से इन तीनों बदमाशों का सीधा संपर्क मिला है। अयोध्या में 22 जनवरी को रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह होने वाला है। ऐसे में इन दिनों वहां विशेष सुरक्षा बरती जा रही है। पुलिस की ओर से हर गतिविधि पर पैनी नजर रखी जा रही है। इसी दौरान पुलिस को इन तीनों बदमाशों के अयोध्या आने के बारे में जानकारी मिली थी। हरियाणा नंबर की सफेद कलर की स्कॉर्पियो में तीनों को त्रिमूर्ति होटल की ओर जाते पकड़ लिया गया।बीकानेर जेल में लंबे समय तक बंद रह चुका है शंकरलालयूपी एटीएस के हत्थे चढ़ा शंकरलाल दुसाद मार्च 2016 से मई 3023 तक बीकानेर जेल में बंद रहा है। उसके खिलाफ संगीन धाराओं में सात मुकदमे दर्ज हैं। वर्ष 2014 में बीकानेर जेल में हुई बलवीर सिंह बानूड़ा हत्याकांड की साजिश में भी शंकरलाल शामिल था। बीकानेर में रामकृष्ण सिहाग हत्याकांड में भी वह शामिल था। सीकर जिले के रींगस और कोतवाली थाने सहित नागौर के लाडनूं थाने में भी शंकर के खिलाफ मुकदमें दर्ज हैं। बदमाश अजीत के खिलाप भी अपहरण और मारपीट के मुकदमे दर्ज हैं।