Himachal Pradesh में बारिस ने मचाई तबाही, अब तक 20 की मौत, कुल्लू और लाहौल स्पीति में फंसे पर्यटक

उत्तर भारत के कुछ राज्यों में आफत की बारिश लगातार जारी है। इस बारिश ने हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा के कई इलाकों में खौफ का मंजर पैदा कर दिया है। हिमाचल प्रदेश में स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है। हिमाचल प्रदेश में जबरदस्त बारिश की वजह से नदियां उफान पर हैं। जगह-जगह लगातार जलभराव की स्थिति देखने को मिल रही है। राहत एवं बचाव का कार्य जबरदस्त तरीके से चल रहा है। कई जगहों पर सैलानियों के फंसे होने की भी खबर है। सैलानियों को सुरक्षित जगह पर निकाले जाने की कोशिश हो रही है। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बारिश से उत्पन्न हुए हालात पर आज एक उच्च स्तरीय बैठक की। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने लोगों से घर में रहने की अपील की है।  इसे भी पढ़ें: मूसलाधार बारिश से प्रभावित हिमाचल प्रदेश, अन्य राज्यों को पीएम केयर से अतिरिक्त राशि दी जाए : खरगेसुखविंदर सिंह सुक्खू ने क्या कहासुखविंदर सिंह सुक्खू ने बताया कि क्षतिग्रस्त सड़कों के कारण देश भर से पर्यटक जिला कुल्लू और लाहौल स्पीति में फंस गए हैं। प्रशासन द्वारा भोजन और कंबल उपलब्ध कराए जा रहे हैं और सभी पर्यटक सुरक्षित हैं। मौसम अनुकूल होते ही पर्यटकों को सड़क या हवाई मार्ग से निकाला जाएगा। उन्होंने कहा कि फंसे हुए लोगों के सभी बचाव कार्य पूरे हो चुके हैं और लाखों लोगों को नदी तल से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। मैं पूरी रात व्यक्तिगत रूप से स्थिति पर नजर रख रहा हूं। अब हमने सड़कों और राजमार्गों की बहाली पर काम करना शुरू कर दिया है।अमित शाह ने की बातमंडी में भारी बारिश की वजह से पंचवक्त्र मंदिर पानी में डूब गया है। हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता जयराम ठाकुर ने कहा कि पिछले 60 साल में ऐसा किसी नहीं देखा जिस तरह की स्थिति बनी हुई है। इस बार बारिश की मौसम में हिमाचल प्रदेश में बहुत बड़ा नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि फंसे लोगों को बचाया जा रहा है। हम लोग बचाव अभियान में वर्तमान सरकार को पूरा सहयोग दे रहे हैं। हिमाचल प्रदेश के मंत्री विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि पिछले 2 दिनों में उत्तर भारत में भारी बारिश के कारण हिमाचल प्रदेश को भारी नुकसान हुआ है…हमने राज्य भर में (सड़कों से मलबा हटाने के लिए) लगभग 342 मशीनें तैनात की हैं। कुल्लू-मनाली में फंसे कई लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। मौतों की भी खबरें आ रही हैं।  इसे भी पढ़ें: पूरा उत्तर भारत भारी बारिश से परेशान, मंडी में बहा पुल, दिल्ली में खतरे के निशान पर पहुंचा यमुना का पानी, स्कूल भी बंद20 से अधिक लोगों की जान गईविक्रमादित्य सिंह ने आगे बताया कि सीएम ने इस पर गृह मंत्री अमित शाह से बात की है और हमें आश्वासन दिया गया है कि एनडीआरएफ हमें पूरा समर्थन देगा। मैंने कल भी कहा था कि यह एक ऐसा समय है जब हमें क्षुद्र राजनीति से ऊपर उठना होगा और सभी को सामूहिक रूप से राज्य के लोग के लिए काम करना होगा। हिमाचल प्रदेश के मंत्री जगत सिंह नेगी ने अब तक सड़क दुर्घटनाओं और इसी तरह के अन्य कारणों से 20 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। भूस्खलन और आकस्मिक बाढ़ के कारण जानमाल का नुकसान उतना अधिक नहीं है। राज्य में प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्गों, जिला और लिंक सड़कों सहित 1300 से अधिक सड़कें प्रभावित हैं। हम अगले दो दिनों के लिए हाई अलर्ट पर हैं।