Rahul Gandhi: हिरासत में लिए गए कांग्रेस नेता, पार्टी ने ट्वीट कर साधा पीएम मोदी पर निशाना

दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है। कांग्रेस नेता लोकतंत्र बचाओ मशाल शांति या ‘लोकतंत्र बचाओ’ मार्च में भाग लेने के लिए लालकिले पर एकत्र हुए थे। खास बात यह है कि राहुल गांधी को 30 दिनों के भीतर अपना आधिकारिक आवास खाली करने का नोटिस दिए जाने के एक दिन बाद, कांग्रेस नेताओं ने ऐसा करने का फैसला किया था। हिरासत में लिए जाने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा कि ये लोकतंत्र की हत्या है। हमने मशालें जलाई जिन्हें पुलिस ने बुझाने का काम किया। लेकिन हम दिल की मशाल जलाएंगे, हर जुलूम से लड़ेंगे। इसे भी पढ़ें: Rahul Gandhi: आर-पार के मूड में कांग्रेस सहित विपक्षी दल, लोकसभा अध्यक्ष के खिलाफ ला सकते हैं अविश्वास प्रस्ताव दूसरी ओर कांग्रेस ने ट्वीट कर लिखा कि ‘सत्य’ और ‘सत्याग्रह’ से डर गया तानाशाह। कांग्रेस के शांतिपूर्ण ‘मशाल मार्च’ को रोकने के लिए लाल किले के पास भारी संख्या में पुलिस लगा दी गई। दिल्ली के कोने-कोने से कांग्रेस के साथियों को हिरासत में लिया जा रहा है। इससे पहले कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने घोषणा की थी कि सभी कांग्रेस सांसद और नेता मार्च में भाग लेंगे जो नई दिल्ली के टाउन हॉल में समाप्त होगा। उन्होंने यह भी कहा था कि अगले 30 दिन ब्लॉक स्तर पर, राज्यों के स्तर पर और फिर राष्ट्रीय स्तर पर ‘जय भारत सत्याग्रह’ का आयोजन होगा। कांग्रेस ने साफ तौर पर कहा है कि मोदी सरकार सभी संस्थानों को कमजोर कर रही है। यह लड़ाई लोकतंत्र और संविधान को बचाने के लिए है।  इसे भी पढ़ें: Congress ने भी वीर सावरकर का सम्मान एक स्वतंत्रता सेनानी के रूप में किया, हरीश रावत बोले- राहुल गांधी ने जो कहा वो ऐतिहासिक तथ्यजब से राहुल गांधी की लोकसभा सदस्यता रद्द की गई है, तब से कांग्रेस का मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन तेज होता दिखाई दे रहा है। दरअसल, सूरत कोर्ट से मानहानि मामले में राहुल गांधी को दोषी करार दिए जाने के बाद उन्हें 2 साल की सजा सुनाई गई थी। हालांकि, सुनवाई के दौरान ही उन्हें जमानत दे दी गई। लेकिन 2 साल की होने की वजह से लोकसभा सदस्यता रद्द हो गई। अब इसी को लेकर कांग्रेस पड़ा मुद्दा बनाने की तैयारी में है।