मिस्र में मिला रहस्यमय रानी का पिरामिड, 300 ममी के साथ मिला सोने का मुखौटा

काहिरा: मिस्र को पिरामिड का देश कहा जाता है। पुरातत्वविदों ने अब मिस्र में एक प्राचीन रानी के पिरामिड का पता लगाया है। खुदाई में उन्हें पिरामिड, ताबूतों, ममियों, कलाकृतियों और आपस में जुड़ी सुरंगों की एक श्रृंखला मिली है। पिछले दो वर्षों से मिस्र की राजधानी काहिरा से 32 किमी दूर दक्षिण में स्थित पुरातात्तविक स्थल सक्कारा में खुदाई हो रही थी। पुरातत्वविदों ने ताबूतों और ममियों की खोज की है, जो राजा तूतनखामेन के करीबी जनरलों और सलाहकारों से संबंधित माना जा रहा है।

पुरातत्विदों ने एक करीबी पिरामिड पर भी ध्यान केंद्रित किया जो मिस्र के छठे राजवंश के पहले राजा टेटी का था। मिस्र के पूर्व पुरावशेष मंत्री और इस खुदाई में शामिल रहे वैज्ञानिक ज़ाही हवास ने कहा, ‘नए साम्राज्य काल में टेटी को देवता की तरह पूजा जाता था। इसलिए हर कोई उसके करीब दफन होना चाहता था।’ उन्होंने आगे कहा, ‘हालांकि सक्कारा में मिली ज्यादातर कब्रें पुराने साम्राज्य से जुड़ी हैं। हमें 30 से 60 फीट के शाफ्ट मिले हैं जो आपस में जुड़े हैं।’

300 ताबूत मिले
हवास ने कहा, ‘इन शाफ्टों में पुरातत्वविदों को न्यू किंगडम काल के 300 सुंदर ताबूत मिले। नए किंगडम के ताबूत यहां मिलना पहले सामान्य नहीं रहा है। इसलिए इन ताबूतों के कारण यह स्थल बहुत खास हो गया है।’ उन्होंने आगे कहा, ‘सभी ताबूत पर बने चेहरे अलग-अलग हैं। पुरुष और महिला में भी अंतर दिखता है। सभी ताबूतों पर नाम लिखे हैं। कई पर उन बच्चों के नाम हैं जिन्होंने शवों को ममी में बदला।’ न्यू किंगडम को मिस्र साम्राज्य भी कहा जाता है जो छठी शताब्दी ईसा पूर्व से 11वीं शताब्दी ईसा पूर्व के बीच का था। यहां मिली ममी लगभग 3000 साल पुरानी हैं।

सोने का मुखौटा भी मिला
ममियों के मिलने से ज्याद पुरातत्वविद इस बात से ज्यादा हैरान हुए कि कई सदियों बाद भी इनकी स्थिति बहुत अच्छी थी। हवास ने कहा, ‘इससे पता चलता है कि न्यू किंगडम में ममीफिकेशन अपने चरम पर था। कुछ ताबूतों में दो ढक्कन होते हैं और एक ताबूत में ठोस सोने से बना महिला का मुखौटा है।’ इसके अलावा शोधकर्ताओं ने एक पिरामिड खोजा जो एक रानी की याद में बनवाया गया था। अभी तक इसकी पहचान अज्ञात थी। हवास ने कहा, ‘हमें पता चला है कि अज्ञात रानी का नाम नीथ था और ऐतिहासिक रिकॉर्ड में उसका कोई उल्लेख नहीं था। हमने इस नई रानी को इतिहास में दर्ज किया है जो रोमांचक है।’ यहां पाई गई चीजों को गीज़ा में ग्रैंड इजिप्शियन म्यूजियम में प्रदर्शित किया जाएगा जो अगले साल खुलेगा।