रूस में प्रिगोझिन की चाल को पुतिन ने किया फेल, असफल तख्‍तापलट के बाद अब क्‍या करेंगे वैगनर चीफ?

मॉस्‍को: साल 2012 में व्‍लादिमीर पुतिन ने रूस के राष्‍ट्रपति के तौर पर वापसी की थी। साल 2013 में एलेक्जेंड्रा गार्माजापोवा की एक रिपोर्ट ने सनसनी मचा दी थी। गार्माजापोवा ने कहा था था कि पुतिन के ऑफिस की तरफ से वैगनर चीफ येवेगनी प्रिगोझिन से जुड़े शख्‍स की मेजबानी की थी। इस रिपोर्ट के मुताबिक साल 2012-2013 से ही रूस की सरकार ने प्रिगोझिन जो तब तक पुतिन के पर्सनल शेफ थे, उनके बारे में जानकारी देना शुरू कर दिया था। साल 2016 में पुतिन ने उन्‍हें ब्‍लैकलिस्‍ट कर दिया था। गार्माजापोवा का मानना है कि मॉस्‍को से 200 किलोमीटर पहले रुक जाने वाले प्रिगोझिन के सितारे अब डूब चुके है और वह एक बर्बाद व्‍यक्ति से ज्‍यादा कुछ नहीं हैं। जिंदा नहीं रहेंगे प्रिगोझिन गार्माजापोवा को भरोसा है कि प्रिगोझिन अब ज्‍यादा समय तक जिंदा नहीं रहेंगे। उन्‍होंने अज जजीरा से बातचीत में कहा, ‘वह लंबे समय तक जिंदा नहीं रहने वाले है।’ गार्माजापोवा इस समय चेक गणराज्‍य की राजधानी प्राग में रह रही हैं। उन पर हाल ही में रूसी सेना के बारे में झूठी बातें फैलाने का आरोप लगाया गया है। वह अब एक ऐसा ग्रुप चलाती हैं जो हजारों रूसी पुरुषों के लिए काम करता है। उन्होंने बताया, ‘मुझे पता है कि व्लादिमीर पुतिन बदला लेने वाले इंसान हैं और वह इस बात को नहीं भूलेंगे कि उन्हें पूरी दुनिया के सामने अपमानित किया गया था।’ प्रिगोझिन इस बात पर राजी हुआ कि वह वैगनर के सैनिकों को रोक लेगा और खुद बेलारूस चला जाएगा। पुतिन की तरफ से कहा गया कि वैगनर चीफ और उनके सैनिकों के खिलाफ सारे आरोप हटा दिए जाएंगे। साथ उन्हें बेलारूस भेजा दिया जाएगा। सीरिया और अफ्रीका में होगा ठिकाना भले ही प्रिगोझिन पर बेलारूस छोड़ने का दबाव हो, फिर भी उसके पास सीरिया और कई अफ्रीका जैसे देशों में कई गढ़ हैं जहां वैगनर ने लड़ाई लड़ी थी। ऐसे में अभी भी उसके पास आकर्षक सिक्‍योरिटी और लकड़ी के व्यापार के साथ ही माइनिंग में हिस्‍सेदारी है। वहीं वैगनर के एक पूर्व सैनिक मराट गैबिदुलिन ने अल जजीरा से कहा, ‘अफ्रीका प्रिगोझिन का इंतजार कर रहा है, सीरिया उसका इंतजार कर रहा है, जहां उसकी जगह लेने के लिए कोई नहीं है।’ उनका कहना था कि इन जगहों पर प्रिगोझिन की हर प्‍लानिंग सफल हुई है। मंगलवार को सउदी अरब के अल हदथ टेलीविजन चैनल ने दावा किया कि रूस की मिलिट्री पुलिस ने सीरिया में वैगनर हेडक्‍वार्ट्स पर छापा मारा। इसमें चार वैगनर कमांडरों को गिरफ्तार कर लिया गया है। दुश्‍मनों को नहीं छोड़ते हैं पुतिन गार्मारापोवा ने कहा, अफ्रीका प्रिगोझिन का आखिरी सहारा बन सकता है। उन्होंने कहा कि इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि प्रिगोझिन को अपना बाकी जीवन सेंट्रल अफ्रीकी देश या किसी और अफ्रीकी देश में बिताना होगा। लेकिन पुतिन वास्तव में सजा देने के लिए जाने जाते हैं। खासकर उन्‍हें छोड़कर जाने वाले सहयोगियों और सहकर्मियों को सजा देन के लिए मशहूर रहे हैं। ऐसे ही एक इंटेलीजेंस ऑफिसर अलेक्जेंडर लिटविनेंको थे। उन्‍होंने पुतिन पर कई आवासीय इमारतों को उड़ाने का आदेश देने का आरोप लगाया था। ताकि हमलों का दोष चेचन अलगाववादियों पर लगाया जा सके। पुतिन ने उन्‍हें बार-बार ‘देशद्रोही’ कहा। लिटविनेंको, जो यूके भाग गए थे, उन्‍हें साल 2006 में रेडियोएक्टिव पोलोनियम -210 घातक जहर देकर मार दिया गया था।